नीतीश कुमार इतनी बार बने बिहार के मुख्यमंत्री , जानिए

जनता दल (युनाइटेड) के अध्यक्ष नीतीश कुमार सोमवार को बिहार के नए मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। उनके साथ भाजपा कोटे से सात, जदयू कोटे से पांच मंत्रियों ने भी शपथ ली।

Updated On: Nov 16, 2020 18:28 IST

Dastak Web 1

Photo Source: Google

जनता दल (युनाइटेड) के अध्यक्ष नीतीश कुमार सोमवार को बिहार के नए मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। उनके साथ भाजपा कोटे से सात, जदयू कोटे से पांच मंत्रियों ने भी शपथ ली। नीतीश सातवीं बार बिहार के मुख्यमंत्री बने हैं। राजभवन परिसर में आयोजित एक समारोह में अपराह्न् 4.30 बजे राज्यपाल फागू चौहान ने नीतीश कुमार को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। शपथ लेने वाले मंत्रियों में भाजपा के सात, जदयू के पांच, हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा और विकासशील इंसान पार्टी के एक-एक मंत्री शामिल हैं। राजभवन परिसर के राजेंद्र मंडप में आयोजित शपथ ग्रहण समारोह में भाजपा के अध्यक्ष जे पी नड्डा और गृह मंत्री अंमित शाह भी शामिल थे। इस समारोह में राजद के नेता और पूर्व उपमुख्यंमत्री तेजस्वी यादव शामिल नहीं हुए। बिहार चुनाव में सबसे अधिक सीटों पर विजय हासिल करने वाली पार्टी राजद ने इस समारोह का बहिष्कार किया था।

बिहार विधानसभा चुनाव में राजग को बिहार की 243 सीटों में से 125 सीटें मिली थीं

शपथ लेने वालों में भाजपा कोटे से तारकिशोर प्रसाद, रेणु देवी, मंगल पांडेय, अमरेंद्र प्रताप सिंह, रामप्रीत पासवान, जीवेश मिश्रा, रामसूरत राय शामिल हैं, जबकि जदयू कोटे से विजय कुमार चौधरी , विजेंद्र प्रसाद यादव, अशोक चौधरी, मेवालाल चौधरी और शीला कुमारी शामिल हैं। हम कोटे से पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के पुत्र संतोष कुमार सुमन तथा वीआईपी के प्रमुख मुकेश सहनी मंत्री बने हैं। नीतीश कुमार के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद भाजपा के तारकिशोर प्रसाद तथा उसके बाद रेणु देवी ने पद और गोपानीयता की शपथ ली। नीतीश के साथ दोनों मंच पर ही बैठे। उल्लेखनीय है कि बिहार विधानसभा चुनाव में राजग को बिहार की 243 सीटों में से 125 सीटें मिली थीं, जिसमें भाजपा को 74, जद (यू) को 43, हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) व विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) को चार-चार सीटें मिली हैं।

बेंगलुरु : घरेलू विवाद के चलते पत्नी को मारी गोली, फिर खुद की आत्महत्या की कोशिश

नीतीश कुमार ने बिहार की सातवीं बार कमान संभाली है। नीतीश इसके पूर्व तीन मार्च 2000 से 10 मार्च 2000 तक, 24 नवंबर 2005 से 24 नवंबर 2010 तक, 26 नवंबर 2010 से 17 मई 2014 तक, 22 फरवरी 2015 से 19 नवंबर 2015 तक, 20 नवंबर 2015 से 26 जुलाई 2017 तक तथा 27 जुलाई 2017 से अब तक बिहार की कमान संभाल चुके हैं।

--आईएएनएस

एमएनपी/एएनएम

योगी आदित्यनाथ सरकार अपने कैबिनेट में फेरबदल की बना रही योजना

ताजा खबरें