Droom ने गुरुग्राम पुलिस वाहनों को जर्म-शील्ड टेक्नोलॉजी से किया Sanitize

कोरोनावायरस (COVID-19) के बढ़ते संकट के बीच भारत के ऑनलाइन ऑटोमोबाइल लेन-देन बाजार ड्रूम ने अग्रिम पंक्ति पर मोर्चा संभाल रही गुरुग्राम पुलिस के वाहनों को सेनेटाइज करने के लिए एक अभियान की घोषणा की है। इस पहल के माध्यम से ड्रूम अपनी जर्म-शील्ड तकनीक का इस्तेमाल करते हुए गुरुग्राम पुलिस की कारों और दुपहिया वाहनों की गहराई से सफाई करेगा।

Updated On: Apr 4, 2020 09:58 IST

Dastak Online

कोरोनावायरस (COVID-19) के बढ़ते संकट के बीच भारत के ऑनलाइन ऑटोमोबाइल लेन-देन बाजार ड्रूम ने अग्रिम पंक्ति पर मोर्चा संभाल रही गुरुग्राम पुलिस के वाहनों को सेनेटाइज करने के लिए एक अभियान की घोषणा की है। इस पहल के माध्यम से ड्रूम अपनी जर्म-शील्ड तकनीक का इस्तेमाल करते हुए गुरुग्राम पुलिस की कारों और दुपहिया वाहनों की गहराई से सफाई करेगा। इस सेनेटाइजेशन अभियान का लक्ष्य गुरुग्राम पुलिस को ड्रॉपलेट-बेस्ड वायरस से बचाना है

ड्रूम हेल्थ के तहत जर्म-शील्ड टेक्नोलॉजी लॉन्च की गई थी। यह कारों और दुपहिया वाहनों के लिए एक एंटी-माइक्रोबियल सरफेस प्रोटेक्शन शील्ड के तौर पर काम करती है। यह शील्ड सार्स और अन्य ड्रॉपलेट-बेस्ड वायरस के खिलाफ तीन महीने तक प्रभावी रहती है और बैक्टीरिया, अल्गी, यीस्ट, मोल्ड और फफूंद जैसे माइक्रो ऑर्गेनिज्म को पनपने नहीं देती। हानिकारक रोगाणुओं से वाहनों की सतह को सुरक्षित रखती है। यह टेक्नोलॉजी किसी भी सरफेस को 99.99% माइक्रोबियल रिडक्शन रेट के साथ मजबूत, टिकाऊ, अदृश्य और प्रभावी तौर पर पॉलीमराइज़ करती है।

ड्रूम के संस्थापक और सीईओ संदीप अग्रवाल ने इस पहल पर कहा, “स्वास्थ्यकर्मियों की तरह देश का पुलिस बल भी कोरोनोवायरस के खिलाफ लड़ाई में फ्रंटलाइन योद्धा के तौर पर जंग लड़ रहा है। गुरुग्राम पुलिस के वाहनों के लिए यह सेनेटाइजेशन अभियान इन बहादुर योद्धाओं और हमारे समाज के वास्तविक नायकों की सुरक्षा में ड्रूम का योगदान है। हमारा जर्म-शील्ड सॉल्युशन ऑटोमोबाइल की सतह पर माइक्रो ऑर्गेनिज्म को जमने से रोकेगा, जिससे तेजी से प्रसारित होते वायरस से सुरक्षा सुनिश्चित होगी। हमारी टेक्नोलॉजी तीन महीने तक वायरस से सुरक्षा प्रदान करती है।

वहीं, सेनेटाइजेशन अभियान पर गुरुग्राम के आईपीएस डीसीपी मुख्यालय से नितिका गहलोत ने कहा इस सेवा को शुरू करने और अत्यधिक संक्रामक कोरोनावायरस के खिलाफ हमारी रक्षा करने वाली इस पहल के लिए हम ड्रूम के आभारी हैं। नागरिकों के स्वास्थ्य और सुरक्षा को सुनिश्चित करना हमारा कर्तव्य है और इस दौरान वायरस से स्वयं को सुरक्षित रखना एक बड़ी चुनौती है। कोरोनावायरस के प्रसार को रोकने के लिए सरफेस-टू-सरफेस ट्रांसमिशन रोकना महत्वपूर्ण है और ड्रूम की जर्म-शील्ड टेक्नोलॉजी इस दिशा में एक बड़ा कदम है।

COVID-19: समुद्र जैसी आबादी में एक बाल्टी पानी जितनी है हमारी तैयारी

बता दें ड्रूम एक एआई और डेटा साइंसेस-ड्रिवन ऑनलाइन ट्रांजेक्शनल प्लेटफार्म है, जो भारत और अन्य उभरते बाजारों में नए और पुराने वाहनों को खरीदने और बेचने के लिए 21वीं सदी का अनुभव प्रदान करता है। ड्रूम ने डिजिटल इकोनॉमी में पुराने वाहनों की खरीद-बिक्री को लेकर एक पूरा इकोसिस्टम तैयार किया है, जिसमें ऑरेंज बुक वैल्यू (पुराने वाहनों का प्राइजिंग इंजिन), ईको (1000 से ज्यादा पॉइंट्स वाला वाहन निरीक्षण ऐप), हिस्ट्री (पुराने वाहनों का ऐतिहासिक रिकॉर्ड), डिस्कवरी (खरीद से पहले के दर्जनों रिसर्च टूल्स) और क्रेडिट (भारत का पहला और इकलौता पुराने कार के लोन और डीलर फाइनेंसिंग का मार्केटप्लेस) शामिल है।

Tablighi Jamaat में इन देशों से लोग हुए थे शामिल, जानें किस देश से कितने जमाती

दस्तक स्पेशल