एलॉफिक इंडस्ट्रीज, आईआईटी जम्मू एवं एसवीएसयू ने किया क्लीन एयर टॉवर लॉन्च

कॉविड-19 वायरस एवं वायु प्रदूषण से होने वाले हानिकारक प्रभाव को ध्यान में रखते हुए एलॉफिक इंडस्ट्री, फरीदाबाद, आईआईटी जम्मू एवं विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय, पलवल ने शुक्रवार को फरीदाबाद में क्लीन एयर टॉवर लॉन्च किया है।

Updated On: Jan 15, 2021 17:29 IST

Dastak Online

Photo Source: Dastak India

कॉविड-19 वायरस एवं वायु प्रदूषण से होने वाले हानिकारक प्रभाव को ध्यान में रखते हुए मानव जीवन एवं पर्यावरण को किस प्रकार से सुरक्षित एवं बेहतर बनाया जा सकता है, इस दिशा में ऐतिहासिक पहल करते हुए एलॉफिक इंडस्ट्री, फरीदाबार, आईआईटी जम्मू एवं विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय, पलवल ने शुक्रवार को फरीदाबाद में क्लीन एयर टॉवर लॉन्च किया है। यह टॉवर पॉल्यूटिड एयर को क्लीन एयर में कन्वर्ट करने का कार्य करेगा, जिससे साफ-स्वच्छ एयर मिले एवं बेहतर पर्यावरण का निर्माण हो।

एलॉफिक इंड़स्ट्री के अध्यक्ष एमबी साहनी, एसवीएसयु के कुलगुरू, राज नेहरू एवं आईआईटी जम्मू के निदेशक, प्रो एमएस गौर के द्वारा यह प्रस्ताव सामने आया था कि एक प्रकार के क्लीन एयर टॉवर पर कार्य किया जाए जिससे सभी को साफ एवं स्वच्छ एयर मिले आज यह कार्य तीनों संस्थानों के सहयोग से पूरा हुआ। एलॉफिक इंड़स्ट्री के उपाध्यक्ष केडी साहनी ने कहा कि तीनों संस्थानों के अनुसंधान सहयोग से बेहतर परिणाम आज हम सबके सामने है।

एसवीएसयु के कुलपति राज नेहरू ने बताया कि इस प्रकार के उत्पादन का निर्माण एवं विकास आत्मनिर्भर भारत की दिशा में सराहनीय एवं ऐतिहासिक पहल है। जिसमें निपुणता के साथ कौशल, प्रौद्योगिकी एवं उद्योग विशेषज्ञता का उपयोग किया गया है। आईआईटी जम्मू के निदेशक, प्रो एमएस गौर ने बताया कि टॉवर की प्रभावशीलता को बढ़ाने के लिए आईआईटी जम्मू से डॉ शिव, एसवीएसयू के डॉ संजय, डॉ मणि, एलॉफिक इंड़स्ट्री से कमलेश कौल, डॉ अनुल शुक्ला सहित शोधकर्ताओं की एक समर्पित टीम ने मजबूत अनुसंधान आधारित विश्लेषण के माध्यम से परीक्षण पर काम किया एवं बेहतर परिणाम मिले।

क्लीन एयर टॉवर के विषय में विस्तार से जानकारी देते हुए एलॉफिक इंड़स्ट्री के अध्यक्ष एमबी साहनी ने बताया कि यह टॉवर लगभग 300 मीटर रेडियल दूरी तक कवर करने के लिए डिज़ाइन किया गया है एवं लगभग 10,000 क्यूबिक फीट प्रति मिनट स्वच्छ हवा देता है। इस स्टेनलेस स्टील टॉवर को कई फिल्ट्रेशन तकनीकों को ध्यान में रखते हुए आकर्षक बनाया गया है।

टॉवर में ऑपरेशन के दौरान शोर को कम करने के लिए एक साइलेंसर लगाया गया है तथा आकर्षक बनाने के लिए एक पानी का फव्वारा, अलग अलग रंग की लाइट्स के साथ लगाया गया है। इसमें एलॉफिक को एक डिज़ाइन पेटेंट मिल चुका है। यह टॉवर मौसम और आसपास के प्रदूषण मापदंडों के वास्तविक आंकड़ों को भी प्रदर्शित करता है। इसे उपयुक्त रूप से बड़े समारोहों एवं सार्वजनिक स्थानों के लिए स्वच्छ और ताजी हवा प्रदान करने के लिए बनाया गया है, जैसे की अस्पताल, हॉटल, हवाई अड्डे, रेलवे स्टेशन, भवन परिसर, संस्थान, बाजार आदि।

Samsung Galaxy Buds Pro समेत ये स्मार्टफोन्स हुए लॉन्च, जानें कीमत और स्पेसिफिकेशन

ताजा खबरें