Aligarh Muslim University (AMU) गणतंत्र दिवस पर Time Capsule में दफन करेगी ये तथ्य

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सीटी (AMU) इस गणतंत्र दिवस 26 जनवरी (Republic Day)  पर कुछ ऐसा करने जा रही है जो शायद ही भारत के इतिहास में किसी ने किया हो। यूनिवर्सिटी इस वर्ष को अपना शताब्दी वर्ष बना रही है और इस गणतंत्र दिवस के अवसर पर वो एक टाइम कैप्सूल (Time Capsule) धरती में दफनाएगी।

Updated On: Jan 24, 2021 12:54 IST

Dastak

Photo Source: Social Media

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सीटी (AMU) इस गणतंत्र दिवस 26 जनवरी (Republic Day)  पर कुछ ऐसा करने जा रही है जो शायद ही भारत के इतिहास में किसी ने किया हो। यूनिवर्सिटी इस वर्ष को अपना शताब्दी वर्ष बना रही है और इस गणतंत्र दिवस के अवसर पर वो एक टाइम कैप्सूल (Time Capsule) धरती में दफनाएगी। जिसमें यूनिवर्सिटी के सन 1920 से लेकर 2020 तक का इतिहास और उपलब्धियां दर्ज होंगी। यूनिवर्सिटी के प्रवक्ता राहत अबरार ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया है कि खुद कुलपति इस कार्य को अंजाम देंगे और इसे लेकर सभी जरुरी तैयारियां पूरी कर ली जा चुकी हैं।

विकटोरिया दरवाजे के सामने दफन होगा टाइम कैप्सूल-

अबरार ने मीडिया को बताया कि हम एक टाइम कैप्सूल जिसमें यहां का इतिहास और उपलब्धियां होंगी को धरती में दफनाएंगे। वाइस चांसलर इस कार्यक्रम को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से ज्वाईन करेंगे। एएमयू के 100 साल पूरे करने के उपलक्ष्य में ये कार्यक्रम रखा गया है। हमने सभी जरुरी जानकारियां एकत्रित कर ली हैं। जिन्हें टाइम कैप्सूल में संस्थान के विकटोरिया दरवाजे के सामने दफन किया जाएगा।

ऐसे बढ़ाई गई है कैप्सूल की आयु-

इस कैप्सूल में 1920 से लेकर अबतक की संस्थान से संबधित सभी जानकारियां होंगी। टाइम कैप्सूल एक ऐसा माध्यम है जिसे भविष्य में की जाने वाली खोज के लिए दफन किया जाता है। जब कैप्सूल खोला जाएगा तो उसके कंटेनर पर उसके दफनाए जाने की तारीख अंकित होगी। हिंदुस्तान टाईम्स की एक खबर के मुताबिक कैप्सूल में निष्क्रिय गैसों से भरा एक सुरक्षात्मक आवरण होगा और इसकी दीर्घायु सुनिश्चित करने के लिए एक बोली में एसिड-प्रतिरोधी कागज पर पाठ लिखा जाएगा।

प्रधानमंत्री ने एएमयू को कहा था मिनी इंडिया-

1920 में स्थापित एएमयू ने उच्च शिक्षा के केंद्र के रूप में 100 साल पूरे कर लिए हैं। प्रधानमंत्री ने इस अवसर को चिह्नित करने के लिए एक विशेष स्मारक डाक टिकट भी जारी किया है।  22 दिसंबर को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से एएमयू के शताब्दी समारोह को संबोधित कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विश्वविद्यालय को मिनी इंडिया और इसकी विविधता में देश की ताकत होने की बात कही थी। उन्होंने कहा था कि एएमयू की शिक्षा का इतिहास भारत की बहुमूल्य विरासत है।

ताजा खबरें