CBSE-ICSE Board Result 2020: 15 जुलाई को जारी हो सकता है रिजल्ट, ऐसे होगा मूल्यांकन

CBSE और ICSE ने बोर्ड रिजल्ट के लिए मार्किंग स्कीम पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट को आश्वासन दिया है कि सीबीएसई और आईसीएसई 10वीं और 12वीं कक्षा के बोर्ड परिणाम 15 जुलाई तक घोषित कर दिए जाएंगे।

Updated On: Jun 26, 2020 14:36 IST

Dastak Web

Photo Source: Google

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (CBSE) और काउंसिल फॉर द इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन (ICSE) ने बोर्ड रिजल्ट के लिए मार्किंग स्कीम पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट को आश्वासन दिया है कि सीबीएसई और आईसीएसई 10वीं और 12वीं कक्षा के बोर्ड परिणाम 15 जुलाई तक घोषित कर दिए जाएंगे। इसके अलावा, दोनों बोर्ड्स ने यह भी बताया कि छात्रों को बिना परीक्षा कैसे अंक दिए जाएंगे। वहीं, सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि सीबीएसई अपनी मूल्यांकन योजना के साथ आगे बढ़ सकती है, जो 12वीं कक्षा के अंतिम 3 पेपरों में छात्रों द्वारा प्राप्त अंकों पर विचार करेगा।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सीबीएसई परीक्षा नियंत्रक संयम भारद्वाज ने कहा है कि कक्षा 12वीं के छात्रों को स्कोर में सुधार करने के लिए वैकल्पिक परीक्षा में बैठने का मौका मिलेगा। परीक्षा नियंत्रक ने यह भी कहा कि यदि कक्षा 12वीं के छात्र वैकल्पिक परीक्षा के लिए आते हैं, तो उस परीक्षा में प्राप्त अंक अंतिम अंक के रूप में माने जाएंगे। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की अधिसूचना जल्द ही आने की उम्मीद है। जबकि आईसीएसई को दसवीं कक्षा के लिए वैकल्पिक परीक्षा में मामूली बदलाव के साथ सूचित करने के लिए एक सप्ताह का समय मिला है।

सीबीएसई बोर्ड का मार्क्स फॉर्मूला-

सीबीएसई के हलफनामे के मुताबिक कक्षा 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं में जीन छात्रों ने तीन से अधिक एग्जाम दिए हैं, उन्हें बेस्ट ऑफ 3 के औसत अंकों के आधार पर बचे हुए विषयों में मार्क्स दिए जाएंगे। वहीं, जीन छात्रों ने केवल तीन परीक्षा दी हैं, उन्हें बेस्ट ऑफ 2 के एवरेज अंकों के आधार पर बाकी विषयों में अंक दिए जाएंगे। जबकि, जो छात्र अब तक केवल एक या दो बोर्ड परीक्षा में शामिल हुए हैं, उन्हें आंतरिक मूल्यांकन और प्रैक्टिकल के औसत अंकों के आधार पर बचे हुए एग्जाम में मार्क्स मिलेंगे।

इन सभी छात्रों को सीबीएसई द्वारा आयोजित वैकल्पिक परीक्षाओं में उपस्थित होने की अनुमति दी जाएगी, यदि वे अपने प्रदर्शन को बेहतर बनाने के लिए इच्छा रखते हैं। हालांकि, इन वैकल्पिक परीक्षाओं में शामिल हुए उम्मीदवार द्वारा प्राप्त अंक फाइनल माने जाएंगे। ऐसे उम्मीदवार जो इन परीक्षाओं का विकल्प नहीं चुनना चाहते हैं, उनके लिए मूल्यांकन योजना के तहत प्राप्त अंकों को अंतिम माना जाएगा। यह विलप्ल केवल 12वीं कक्षा के लिए है। हालांकि 10वीं कक्षा के छात्रों के लिए यह विकल्प उपलब्ध नहीं होगा।

आईसीएसई बोर्ड का मार्किंग फॉर्मूला होगा अलग-

आईसीएसई बोर्ड के छात्रों के लिए औसत फॉर्मूला सीबीएसई से थोड़ा अलग होगा, लेकिन आईसीएसई ने अदालत को बताया कि वे 10वीं कक्षा के छात्रों को बाद में परीक्षा लिखने का विकल्प दे सकते हैं। हालांकि, इस मामले पर बोर्ड ने अभी नोटिफिकेशन जारी नहीं किया है, उम्मीद करते है अधिसूचना जल्द जारी होगी। बता दें जुलाई में होने वाली कक्षा 10वीं और 12वीं की शेष सीबीएसई और आईसीएसई बोर्ड परीक्षाएं कोरोना वायरस महामारी के कारण रद्द कर दी गई थी।

PMNRF और राजीव गांधी फाउंडेशन को लेकर भाजपा और कांग्रेस पार्टी में विवाद

कोविड-19 मामलों में स्पाइक के मद्देनजर लंबित बोर्ड परीक्षाओं को रद्द करने के सीबीएसई के फैसले का गुरुवार को शिक्षकों और अभिभावकों ने स्वागत किया लेकिन उन्होंने कहा कि इससे छात्रों का प्रदर्शन प्रभावित हो सकता है, जिनमें से कई छात्र प्री-बोर्ड को गंभीरता से नहीं लेते हैं।

UP Board Results 2020: कक्षा दसवीं और बारहवीं के परिणाम जल्द होंगे जारी, यहां देखें रिजल्ट

ताजा खबरें