Haryana Black Fungus: हरियाणा में ब्लैक फंगस से 50 मौत, 750 मामले सामने आए

हरियाणा (Haryana) में ब्लैक फंगस (Black Fungus) का प्रकोप तेजी से बढ़ता दिख रहा है। इस बीमारी के कारण राज्य में 50 लोगों की मौत हो गई है और 650 लोगों का अस्पताल में इस बीमारी को लेकर इलाज चल रहा है।

Updated On: May 30, 2021 19:20 IST

Dastak

Photo Source- Pixabay

हरियाणा (Haryana) में ब्लैक फंगस (Black Fungus) का प्रकोप तेजी से बढ़ता दिख रहा है। इस बीमारी के कारण राज्य में 50 लोगों की मौत हो गई है और 650 लोगों का अस्पताल में इस बीमारी को लेकर इलाज चल रहा है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर (CM Manohar Lal Khattar) ने रविवार को मीडिया के समक्ष ये जानकारी रखी है। अबतक हरियाणा इस बीमारी से संबधित 750 केस सामने आए हैं। 58 लोग इस बीमारी को मात देकर ठीक भी हो चुके हैं। मुख्यमंत्री ने चंडीगढ़ में एक प्रेस वार्ता के दौरान ये जानकारी दी है।

इंटरनेट के जरिए प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए सीएम ने कहा कि सरकार बैल्क फंगस के इलाज में इस्तेमाल होने वाले इंजेक्शन के इंतजाम में सरकार लगी हुई है। वहीं कुछ स्टॉक जो पहले से ही मौजूद है वो सरकारी अस्पतालों में इस्तेमाल में लिया जा रहा है। सीएम ने बताया कि उन्हें बैल्क फंगस के इलाज में प्रयोग होने वाले इंजेक्शन की 6000 शीशियां मिली हैं। अगले दो दिनों में उन्हें 2000 अतिरिक्त इंजेक्शन मिल जाएंगे। जबकि उन्होंने 5000 इंजेक्शनस के ऑर्डर दिए हुए हैं।

बीते गुरुवार को हरियाणा के स्वास्थय मंत्री अनिल विज ने अधिकारियों को राज्य के सरकारी अस्पतालों में ब्लैक फंगस के मरीजों के इलाज के लिए बेड की संख्या 20 से बढ़ाकर 50 करने के आदेश जारी किए हैं। विज ने कहा है कि इस बीमारी से संबंधित मरीजों को दवा बिना किसी रुकावट के मिलनी चाहिए। साथ ही इस बात का ध्यान रखा जाए कि मरीज के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवा और इंजेक्शन की कोई कमी होने न पाए।

युविका चौधरी के खिलाफ हरियाणा में दर्ज हुई एफआईआर, अनुसूचित जाति पर अपमानजनक टिप्पणी मामला

बीते दो हफ्तों के दौरान राज्य में बैल्क फंगस के मामलों में इजाफा देखने को मिला है। इससे पहले विज ने कहा था कि राज्य सरकार ने भारत सरकार से इस बीमारी के बेहतर इलाज के लिए एम्फोटेरिसिन-बी के 12,000 इंजेक्शन की मांगे हुए हैं। हरियाणा में ब्लैक फंगस को अधिसूचित बीमारी की सूची में रखा हुआ है। जिसके तहत डाक्टरों को इस बीमारी से संबधित किसी भी मामले की जानकारी जिला सीएमओ को देनी अनिवार्य हो गई है।

कोरोना में अनाथ हुए बच्चों को पीएम केयर से मिलेंगे 10 लाख, शिक्षा और स्वास्थय खर्च भी उठाएगी सरकार

ताजा खबरें