Boycott Chinese Product:भारत में चीनी सामानों के बहिष्कार की आवाज पर क्यों बौखलाया चीन?

कोरोना महामारी और लद्दाख सीमा पर हो रहे तनाव के बीच भारत में चीनी सामानों के बहिष्कार की आवाज बुलंद हो रही है। कई लोगों ने इसका समर्थन किया है, लेकिन इन्हीं आवाजों से चीन पूरी तरह बौखला गया है।

Updated On: Jun 9, 2020 00:24 IST

Dastak Web Team

Photo Source: Google

कोरोना महामारी और लद्दाख सीमा पर हो रहे तनाव के बीच भारत में चीनी सामानों के बहिष्कार की आवाज बुलंद हो रही है। कई लोगों ने इसका समर्थन किया है, लेकिन इन्हीं आवाजों से चीन पूरी तरह बौखला गया है। चीन ने इसके खिलाफ प्रोपेगेंडा भी शुरू कर दिया है और अपने मुखपत्र के द्वारा भारत को चेतावनी दे डाली है।

क्यों परेशान है चीन-

बता दें कोरोना वायरस के बाद अमेरिका पूरी तरह से चीन से खफा हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कई बार चीन पर इस वायरस को फैलाने के लिए माफ नहीं करने की बात कही है। इसके साथ हांगकांग जैसे मुद्दे को लेकर चीन अमेरिका के निशाने पर हैं। वहीं कोरोना वायरस को लेकर चीन अभी कई देशों के निशाने पर हैं। भारत के साथ अमेरिका के अच्छे संबंध है। यह भी चीन की नजरों में खटकता है। वहीं दुनिया के आठ देशों ने चीन के खिलाफ मजबूत गठबंधन बनाया है। इस गठबंधन का नाम इंटर पार्लियामेंट्री अलायंस ऑन चाइना रखा गया है। इसमें अमेरिका, जर्मनी, ब्रिटेन जापान, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, स्वीडन, नार्वे और यूरोप की संसद के सदस्य शामिल हैं। इस गठबंधन का मकसद चीन से जुड़े मुद्दों पर माकूल जवाब देना और रणनीति बनाना है। वहीं चीन लगातार भारत के साथ लद्दाख सीमा पर तनाव उत्पन कर रहा है। यह भी दुनिया की नजरों में है।

ऑस्ट्रेलियाई पूर्व कार रेसर रेनी ग्रेसी बनीं एडल्ट फिल्म स्टार

चीन के ग्लोबल टाइम्स में छपे एक लेख में कहा गया-

ग्लोबल टाइम्स में छपे एक लेख में कहा गया है कि कुछ भारतीय राष्ट्रवादियों के कारण भारत में ऐंटी-चीन भावना पनप रही है। चीन के खिलाफ आम भारतीयों को भड़काने और बदनाम करने की यह जानबूझकर की गई कोशिश है। चीनी सामानों के बहिष्कार की अपील पूरी तरह फेल हो जाएगी, क्योंकि ये उत्पाद आम भारतीयों की जिंदगी का हिस्सा बन चुके हैं और इसे हटाना बेहद कठिन है।

देश में बहिष्कार अभियान-

भारत के बाजारों में चीन के समान मौजूद है। इस सामान के बहिष्कार के व्यापारी समूह के लोग भी एकजुट होकर विरोध करने के लिए अभियान का आगाज कर दिया है। वहीं इंजीनियर और शिक्षाविद् सोनम वांगचुक जो मेड इन चाइना प्रोडक्ट के खिलाफ आवाज उठा रहें हैं। एक वीडियो शेयर कर वांगचुक ने कहा चीन से सामान खरीदना छोड़ना होगा। इसी के सपोर्ट में कई फिल्मी हस्तियों ने भी इसका विरोध किया है। जिसमें अभिनेता मिलिंद सोमन, अरशद वारसी जैसे कलाकार हैं।

भारत में चीन का निवेश-

भारत के कई सेक्टरों में चीन ने निवेश किया है। जहां 2019 में भारतीय स्टार्टअप्स में चीन का निवेश 94 फीसदी बढ़ा है। वहीं भारत में 30 बड़े स्टार्ट अप में से 18 स्टार्ट अप में चीन के निवेशकों का पैसा लगा है। बता दें चीन का वीडियो ऐप टिकटॉक भारत में इतना लोकप्रिय है कि इसने गूगल और यूट्यूब को पीछे छोड़ दिया है। यहां के बाजारों में चीनी के ओप्पो और कई फोन बेची जा रही है।

जानें, कोरोना संक्रमण से बचने के लिए आयुर्वेदिक औषधि कितनी कारगर

 

ताजा खबरें