10 भारतीय जवानों को रिहा करके आखिर क्या हासिल करना चाहता है चीन?

गलवान घाटी में 15 जून को चीन और भारत के बीच हिंसक झड़प हुई थी। इस झड़प में देनों देशों की सेनाओं को नुकसान का सामना करना पड़ा था। अब खबर ये है कि दोनों देशों के बीच वार्ता के बाद चीन ने भारत के 10 जवानों को रिहा कर दिया है।

Updated On: Jun 19, 2020 12:28 IST

Dastak Online

Photo : Google

गलवान घाटी में 15 जून को चीन और भारत के बीच हिंसक झड़प हुई थी। इस झड़प में दोनों देशों की सेनाओं को नुकसान का सामना करना पड़ा था। अब खबर ये है कि दोनों देशों के बीच वार्ता के बाद चीन ने भारत के 10 जवानों को रिहा कर दिया है। इस झड़प के बाद चीन और भारत के वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों के बीच तीन दौर की बातचीत सहित कूटनीतिक और सैन्य चैनलों के माध्यम से गहन वार्ता हुई।

हिंदुस्तान टाइम्स की खबर के अनुसार, खबर में नाम न छापने की शर्त पर बोलते हुए, लोगों ने कहा कि चीन की तरफ से कम से कम दो अधिकारियों सहित 10 सैनिकों को गुरुवार शाम को भारतीय सेना को वापस लौटा दिया गया था। इन सभी सैनिकों को रिहाई को बाद मेडिकल के लिए भेजा गया है। इससे पहले वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर हिंसक झड़प में भारत की तरफ से 20 जवान शहीद हुए थे जिसमें एक कर्नल रैंक के ऑफिसर भी शामिल हैं। इस रिपोर्ट के अनुसार दोनों पक्षों के बीच बढ़े तनाव के कारण इन सैनिक वार्ताओं को आमतौर पर साझा नहीं किया गया है।

इसके विपरीत भारतीय सेना और भारत के विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को कहा था कि कोई भी भारतीय सैनिक इस झड़प और सैन्य कार्रवाई में लापता नहीं है। भारत ने चीन पर आरोप लगाया है कि एलएसी पर भारतीय पक्ष को पार करने और एक संरचना बनाने का प्रयास करने वाले चीनी सैनिकों की वजह से 15 जून की झड़प हुई। इसी के साथ भारत ने चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के गलवान घाटी पर संप्रभुता के दावे को भी खारिज कर दिया है।

भारतीय रेलवे ने इस चीनी कंपनी का करोड़ों का कॉन्ट्रैक्ट किया रद्द, सीमा विवाद नहीं ये है वजह

चीन की तरफ से भारतीय सैनिकों को वापस लौटाने का मुख्य कारण दुनिया को इशारा देना मात्र है कि चीनी सैनिक आक्रामक नही हैं। चीन ने ऐसा करके यह भी संदेश दिया है कि वो अपने क्षेत्र में घुसपैठ करने वाले सैनिकों को भी माफ कर देते हैं। इस तरह से चीन पहले भी कहानियों को रचता रहा है।

भारत युद्ध नहीं चाहता लेकिन जरूरी होने पर मुहतोड़ जवाब देंगे- इंद्रेश कुमार

ताजा खबरें