चीन LAC पर गलवान के बाद देपसांग के मैदानों में भारत के खिलाफ खोलेगा मोर्चा?

पूर्वी लद्दाख में गलवान घाटी में भारतीय सेना के साथ हिंसक झड़प में मुंह की खाने बाद भी चीन बाज नहीं आ रहा है। चीन ने अब वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर देपसांग (Depsang) के मैदानों में अपने सैनिकों को भारी संख्या में तैनात करना शुरू कर दिया है। भारत पहले ही डीएसडीबीओ सड़क का निर्माण पूरा चुका है।

Updated On: Jun 25, 2020 19:47 IST

Dastak Online

Photo Source: Social Media

पूर्वी लद्दाख में गलवान घाटी में भारतीय सेना के साथ हिंसक झड़प में मुंह की खाने बाद भी चीन बाज नहीं आ रहा है। चीन ने अब वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर देपसांग (Depsang) के मैदानों में अपने सैनिकों को भारी संख्या में तैनात करना शुरू कर दिया है। भारत पहले ही डीएसडीबीओ सड़क का निर्माण पूरा कर चुका है। इसके अलावा LAC के साथ Drubuk से दौलत बेग ओल्डी (DBO) तक एक सड़क बनाकर भारत चीन की रातों की नींद को हराम कर चुका है। इसी वजह से चीन-भारत सीमा पर कई मोर्चों को खोल रहा है। भारत ने अब दौलत बेग ओल्डी (DBO) से चीनी गतिविधियों पर नजर रखने की अपनी क्षमता बढ़ा दी है।

सीमा पर चीन की आक्रामकता के बारे में बात करते हुए, वीर चक्र पुरस्कार विजेता रिटायर्ड कैप्टन ताशी ने ज़ी न्यूज़ को बताया कि चीन ने कभी उम्मीद नहीं की थी कि भारत कभी भी गलवान घाटी में एक पुल का निर्माण कर पाएगा। उन्होंने कहा कि चीन इस बात का आकलन करने में भी विफल रहा कि भारत एलएसी पर कार्रवाई का जवाब देगा। दोनों सेनाओं के बीच में हुई झड़प के बाद चीन इतना डर गया है कि वो यह तक नही बता पा रहा कि उसकी तरफ कितने सैनिकों की हत्या हुई है।

भारतीय सेना ने हाल ही में केवल 72 घंटों में गलवान घाटी में एक पुल का निर्माण किया है। चीन ने इस कदम को रोकने की हर कोशिश की लेकिन भारत ने आगे बढ़कर इस काम को अंजाम दिया। भारतीय डीबीओ सड़क चीन की तरफ से भी दिखाई देती है और इस स्थान से चीनी क्षेत्र में हो रही हर गतिविधियों को भी देखा जा सकता है।

जम्मू-कश्मीर में पांच आतंकवादियों को किया गया गिरफ्तार, सेना को मिली बड़ी कामयाबी

भारतीय सेना LAC पर अपने क्षेत्र की सुरक्षा के लिए पूरी तरह से तैयार और प्रतिबद्ध है। चीन की ओर से किसी भी दुस्साहस के खिलाफ सेना डीबीओ से लेकर गलवान घाटी, पांगोंग लेक और डेमचोक तक हाई अलर्ट पर है। सरकार ने लद्दाख के सीमावर्ती क्षेत्रों में बुनियादी ढांचों में सुधार पर ध्यान केंद्रित करने का निर्णय लिया है। डेमचोक में मोबाइल टॉवर बनाने के अलावा लद्दाख में एलएसी के पास 54 मोबाइल टॉवरों का निर्माण कार्य भी शुरू हो गया है।

दिल्ली के होटलों में चीनी नागरिकों की नो-एंट्री, 3000 होटल-गेस्ट हाउस ने लिया फैसला

ताजा खबरें