भारत के साथ चीन करना चाहता है लड़ाई? नौवें राउंड की सैन्य वार्ता के बाद भी LAC पर तैनात की मिसाइलें

चीन आपनी चालाकियों से बाज नहीं आ रहा है। चीन आये दिन कोई न कोई ऐसी हरकत कर बैठा है, जिससे उसके इरादे काफी खतरनाक लगने लगते हैं। दरअसल, गलवान हिंसा के बाद दोनों देशों द्वारा एलएसी पर शांति बनाये रखने के लिए भारत और चीन के बीच लगातार वार्ता जारी है।

Updated On: Feb 8, 2021 11:11 IST

Dastak Online

Photo Source: Social media

चीन आपनी चालाकियों से बाज नहीं आ रहा है। चीन आये दिन कोई न कोई ऐसी हरकत कर बैठा है, जिससे उसके इरादे काफी खतरनाक लगने लगते हैं। दरअसल, गलवान हिंसा के बाद दोनों देशों द्वारा एलएसी पर शांति बनाये रखने के लिए भारत और चीन के बीच लगातार वार्ता जारी है। नौवें राउंड की सैन्य वार्ता होने के बाद भी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) ने मिसाइलें और होवित्जर तैनात कर लिए हैं।

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, चीन ने तिब्बत में काफी भारी संख्या में मिसाइलें और होवित्जर को तैनात किया है, जोकि उसकी किसी बड़ी चालबाजी का संकेत है। राष्ट्रीय सुरक्षा नियोजकों के अनुसार, पीएल तीनों क्षेत्रों में पैंगोंग त्सो के फिंगर क्षेत्र में नए निर्माण के साथ सैनिकों और भारी उपकरणों की तैनाती नए सिरे से कर रहा है।

इसी के साथ, पूर्वी लद्दाख के चुमार में एलएसी से महज 82 किलोमीटर की दूरी पर स्थित शिंकाने पीएलए कैंप के आसपास 35 भारी सैन्य वाहनों और चार 155 एमएम पीएलजेड 83 सेल्फ प्रोपेल्ड होवित्जर की ताजा तैनाती का संकेत देने के लिए साउथ ब्लॉक के पास साक्ष्य हैं। इसके अलावा, रूडोक निगरानी सुविधा के पास, एलएसी से 90 किमी दूर, सैनिकों के लिए चार नए बड़े शेड और विभाजन क्वार्टर के पास वाहनों की भारी तैनाती और नए निर्माण कार्य पिछले महीने देखे गए हैं। रुडोक और शिक्नेह दोनों कब्जे वाले अक्साई चिन क्षेत्र में हैं।

Uttarakhand Glacier Burst: नई जिंदगी मिलने से झूम उठा टनल से निकला मजदूर, देखें वीडियो

बता दें कि बीते साल 15 जून को पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में पीएलए के जवानों ने भारतीय सैनिकों पर धोखे से हमला कर दिया था। इस हमले में 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए जबकि चीन के 40 से ज्यादा सैनिकों की मारे जाने की खबर है। हालांकि, चीन ने अब तक मारे गए अपने सैनिकों की संख्या की पुष्टि नहीं की है। इस हिंसक झड़प के बाद भारत ने एलएसी पर चीन के प्रति अपने रवैये में बड़ा बदलाव करते हुए कई रणनीतिक चोटियों पर कब्जा कर लिया।

ITBP के जवानों ने चमोली टनल में फंसे 16 कामगारों को सुरक्षित बाहर निकाला

ताजा खबरें