खुशखबरी! कोरोना की ये वैक्सीन दिखा रही कमाल, अक्टूबर तक मार्किट में आने की तैयारी

दुनियाभर में कोरोना संक्रमण से बचने के लिए कई देश वैक्सीन बनाने में जुटे हैं। इसी बीच खबर है कि ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं द्वारा वैक्सीन को लेकर किये गये परीक्षण के परिणाम काफी अच्छे आये हैं।

Updated On: Jun 25, 2020 14:24 IST

Dastak Online

प्रतीकात्मक तस्वीर (Photo Source Google)

दुनियाभर में कोरोना संक्रमण से बचने के लिए कई देश वैक्सीन बनाने में जुटे हैं। इसी बीच खबर है कि ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं द्वारा वैक्सीन को लेकर किये गये परीक्षण के परिणाम काफी अच्छे आये हैं। ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में जेनर इंस्टीट्यूट के निदेशक, प्रोजेक्ट लीडर प्रोफेसर एड्रियन हिल ने बताया कि कोविड-19 की वैक्सीन को लेकर एक्सपेरीमेंट जानवरों (चिंपांज़ी) पर किया गया, जिसका परिणाम काफी अच्छा रहा। इसके बाद परीक्षण के आखिरी फेज यानी ह्यूमन ट्रायल की तरफ बढ़ गए हैं। जिसमें ये पता लगाया जाएगा कि आखिर ये वैक्सीन कितनी कारगर है।

टाइम्स नाउ की एक रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने कहा कि करीब अक्टूबर तक इस वैक्सीन को रिलीज़ की जा सकती है। इस वैक्सीन का परीक्षण चिंपांज़ी पर किया गया, जिसके बहुत अच्छे परिणाम दिखे गये हैं। और ये वैक्सीन पहले से ही मानव परीक्षणों के अगले चरण में चली गई है। साथ ही, उन्होंने बताया कि ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन, जिसे ChAdOx1 nCoV-19 कहा जाता है, फार्मास्यूटिकल्स समूह AstraZeneca के साथ मिलकर विकसित किया गया है, जिसका ब्राज़ील में पहले से ही वॉलिंटर्स पर परीक्षण किया जा रहा है।

वहीं, उन्होंने बताया कि दक्षिण अफ्रीका में कोरोना के इलाज के टीके के सबसे पहला परीक्षण सॉविटो के एक निवासी पर किया गया है। वह पहले दक्षिण अफ्रीकी बन गए हैं, जिन्होंने इस टीके को अपने ऊपर प्रयोग करवाया है। वहीं, म्हलोगों (24) समेत करीब 2,000 दक्षिण अफ्रीकी नागरिक इस अंतर्राष्ट्रीय परीक्षण में हिस्सा लेंगे। जबकि 4,000 से अधिक प्रतिभागियों को ब्रिटेन में क्लिनिकल परीक्षण के लिए नामांकित किया गया है।

कोरोना वायरस का अनोखा मामला, माँ-बाप को छोड़ नवजात पर किया अटैक!

बता दें, कि दुनियाभर में इस समय कोरोना वैक्सीन को लेकर 120 से भी अधिक प्रतिभागी काम कर रहे हैं। जबकि, इनमें से 13 वैक्सीन क्लिनिकल ट्रायल के फेज में पहुंच चुकी हैं। इनमें से सबसे ज्यादा चीन की वैक्सीन ह्यूमन ट्रायल में है। बता दें कि चीन में 5, ब्रिटेन में 2, अमेरिका में 3, रूस ऑस्ट्रेलिया और जर्मनी में 1-1 वैक्सीन क्लिनिकल ट्रायल फेज में हैं।

जानें, किस डर की वजह से पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने लगाई थी देश में इमरजेंसी

ताजा खबरें