हमास और इजराइल के बीच युद्ध विराम की हुई घोषणा, जानें इसपर पडोसी देशों ने क्या कहा

इस युद्ध से पूरे मध्य पूर्व में तनाव की स्थिती बनी रही। इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतान्याहू ने गुरुवार को हमास से युद्धविराम की घोषणा पर मुहर लगाई थी, इसके लिए कैबिनेट वोटिंग हुई थी और प्रधानमंत्री ने युद्धविराम के पक्ष में वोट किया था।

Updated On: May 21, 2021 18:38 IST

Dastak

Photo Source- Google

नाजिश खान

पीछले 11 दिनों से इजराइल और हमास के बीच छिड़ा युद्ध अब शांत हो गया है। लेकिन इस युद्ध से पूरे मध्य पूर्व में तनाव की स्थिती बनी रही। इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतान्याहू ने गुरुवार को हमास से युद्धविराम की घोषणा पर मुहर लगाई थी, इसके लिए कैबिनेट वोटिंग हुई थी और प्रधानमंत्री ने युद्धविराम के पक्ष में वोट किया था। इजराइल में न्यू होप के नेता ने सरकार की योजना की आलोचना की और कहा कि युद्ध विराम का इजराइल संकल्प पर बुरा असर पड़ेगा। नेता सआर ने कहा युद्ध विराम को लागू करना हमास हितों को मजबूत करना होगा, क्योंकि बिना किसी प्रतिबंध के युद्धविराम को मानना राजनीतिक समझ का फैसला नहीं होगा और इससे इजराइल को काफी नुकसान होगा।

एक धार्मिक पार्टी के नेता बेजलिल इस्मोर्टेज ने बेंजामिन नेतान्याहू को ट्वीट कर कहा कि अगर युद्ध विराम में यरूशलम को लेकर भी रियायत देने की बात है तो सरकार बनाने का ख्याल छोड़ दीजिए। दूसरी तरफ गज़ा में हमास के उपनेता खलीफा ने युद्धविराम को अपनी जीत बताया है। उन्होंने कहा है आज हमारे प्रतिरोध की जीत हुई है। एक साथ दो खुशी मनाएंगे, एक जीत की और दूसरी ईद की।

इसके अलावा सऊदी अरब इजराइल को लेकर सबसे ज्यादा मुखर था, सऊदी अरब की मुखरता संयुक्त राष्ट्र की आम सभा की आपातकालीन बैठक में गुरुवार को देखने को मिली इस से संबोधित करते हुए अरब के विदेश मंत्री प्रिंस फैसल ने कहा कि फिलिस्तीनियों के हकों के खिलाफ इजराइली आक्रमता अंतरराष्ट्रीय नियमों का खतरनाक उल्लंघन है। फिलस्तीनी प्रशासन की ओर से विदेश मंत्री के तौर पर आए रियाद अल मलिकी ने कहा कि, इजराइल-फिलस्तीनियों का जनसंहार कर रहा है। उन्होंने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से फिलिस्तीन की रक्षा की अपील की, साथ ही यह भी कहा कि दुनिया के सभी देशों की जिम्मेदारी है कि वे शांति न्याय और आजादी सुनिश्चित कराने के लिए काम करें।

ऑक्सीजन लेवल और प्लस रेट नापने वाली मोबाइल एप्लिकेशन हुई लॉन्च, कैमरे और फ्लैश से करती है काम

तुर्की के विदेश मंत्री मेवलूत काउसोगल ने भी यूएन की आपातकालीन आमसभा में इसराइल की जमकर आलोचना की, तुर्की के विदेश मंत्री ने कहा कि इसराइल के खिलाफ राष्ट्रीय समुदाय को एकजुट होना होगा। तुर्की ने कहा कि यह दुर्भाग्य है कि एक बार फिर से सुरक्षा परिषद की नाकामी इजराइल के मामले में सामने आई है। इजराइल के विदेश मंत्रालय ने कहा है कि उसने बिना किसी शर्त के मिस्र का पारस्परिक युद्ध विराम के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया है। वहीं गुरुवार को इजराइल ने कहा था कि लड़ाई इजराइल और फिलस्तीन के बीच की नहीं है, बल्कि आतंकवादी संगठन हमास और इजराइल की है।

केंद्र का दावा- जून अंत तक देश में केवल 15-20 हजार रह जाएंगे कोरोना मामले

ताजा खबरें