यात्रा नियमों में होने जा रहा है बड़ा बदलाव, अगले साल से मांगा जा सकता है वैक्सीन पासपोर्ट

जैसा कि लगभग सभी देशों ने कोरोनोवायरस का टीकाकरण अभियान शुरू कर दिया है। इसलिए अगले वर्ष तक इसके सामान्य स्थिति में वापस लौटने की उम्मीदें अधिक हैं।

Updated On: Dec 28, 2020 14:44 IST

Dastak Web 1

Photo Source: Google

जैसा कि लगभग सभी देशों ने कोरोनोवायरस का टीकाकरण अभियान शुरू कर दिया है। इसलिए अगले वर्ष तक इसके सामान्य स्थिति में वापस लौटने की उम्मीदें अधिक हैं। कोरोनावायरस महामारी से अब तक दुनियाभर में करीब 8 करोड़ से अधिक लोग संक्रमित हो चुके है। जबकि 1.76 मिलियन लोग इस खतरनाक बीमारी से मारे गए हैं। इस महामारी ने लगभग दुनिया के सभी देशों में जीवन के तरीके को बदल दिया है।

क्सीन पासपोर्ट आवेदन करने की आवश्यकता पड़ सकती है

सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार, अब लोगों को मास्क और सामाजिक दूरी बनाए रखने के साथ ही एक और चीज का ध्यान रखना होगा। आपको बता दें कि लोगों को वैक्सीन पासपोर्ट की आवश्यकता पड़ सकती है। इसके तहत लोगों को मोबाइल ऐप पर अपने कोविड -19 परीक्षणों और टीकाकरणों का विवरण अपलोड करना होगा। यात्रा करने पर वैक्सीन पासपोर्ट मांगा जा सकता है। ये  पासपोर्ट इस बात की पुष्टि करेगा कि उपयोगकर्ता को कोरोनोवायरस के लिए नकारात्मक परीक्षण किया गया है।  कॉन्सर्ट वेन्यू, स्टेडियम, मूवी थिएटर, कार्यालय या यहां तक कि देशों के लिए उनका पासपोर्ट होगा। हालांकि विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि ये पासपोर्ट संचरण को कम करने में मददगार नहीं हो सकते हैं। लेकिन इसके द्वारा दूसरे संक्रमण के फैलने की संभावना कम हो जाएगी।

CommonPass ऐप कॉमन ट्रस्ट नेटवर्क द्वारा बनाया गया है

लोगों से यह अपेक्षा की जाएगी कि वे कुछ कंपनियों और प्रौद्योगिकी समूहों द्वारा विकसित किए जा रहे अनुप्रयोगों (Apps) पर अपने कोविड -19 परीक्षणों और टीकाकरणों का विवरण अपलोड करें। इसका एक उदाहरण है CommonPass ऐप, जो कॉमन ट्रस्ट नेटवर्क द्वारा बनाया गया है। इसपर उपयोगकर्ता अपने Covid-19 परिणाम या टीकाकरण के प्रमाण जैसे मेडिकल डेटा अपलोड कर सकेंगे। एक पास एक क्यूआर कोड के रूप में उत्पन्न होगा जिसे अधिकारियों को प्रस्तुत किया जा सकता है। कॉमन ट्रस्ट नेटवर्क, द कॉमन्स प्रोजेक्ट और वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम ने इसकी पहल की है। इन संगठनों ने कैथे पैसिफिक, जेटब्लू, लुफ्थांसा, स्विस एयरलाइंस, यूनाइटेड एयरलाइंस और वर्जिन अटलांटिक जैसी एयरलाइंस के साथ साझेदारी की है।

Sovereign Gold Bond Scheme: कम कीमत पर सोना खरीदने का मौका, ऐसे करें निवेश

आईबीएम ने भी डिजिटल हेल्थ पास नामक एक ऐप विकसित किया है। यह एप्लिकेशन कंपनियों के लिए मददगार साबित होगा। इस एप्लिकेशन के माध्यम से कर्मचारियों के प्रवेश करने पर स्कैन करके उनके कोरोनोवायरस परीक्षण और तापमान की जांच की जा सकेगी। डब्ल्यूएचओ ने कुछ देशों के सुझाव पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा है कि वर्तमान में ऐसा कोई सबूत नहीं है कि जो लोग कोविड -19 से उभर चुके हैं, तो वे दूसरे संक्रमण से भी सुरक्षित हैं। हालांकि वैक्सीन पासपोर्ट का उपयोग व्यक्तियों को उनके कार्यस्थलों या अन्य देशों में प्रवेश करने की अनुमति देने के लिए किया गया है।

दिव्यांग और वंचित वर्ग के 11 जोड़े बंधे विवाह सूत्र में, फेरों के साथ ली ये शपथ

ताजा खबरें