21 जून को दुनिया खत्म हो जाएगी? माया कैलेंडर का दावा

साल 2020 पूरी दुनिया पर कहर बरपाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ रही है। पहले से ही कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में कोहराम मचा रखा है। इसी बीच एक चौकाने वाला नया दावा सामने आया है कि 21 जून को दुनिया खत्म हो जाएगी।

Updated On: Jun 15, 2020 19:18 IST

Dastak Web Team

Photo : Twitter

साल 2020 पूरी दुनिया पर कहर बरपाने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ रही है। पहले से ही कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में कोहराम मचा रखा है। इसी बीच एक चौकाने वाला नया दावा सामने आया है कि 21 जून को दुनिया खत्म हो जाएगी।यह दावा माया सभ्‍यता के कैलेंडर ने किया है।

माया सभ्‍यता के कैलेंडर ने दावा किया है-

बता दें दक्षिण अमेरिकी देशों में इस्‍तेमाल किए जाने वाले माया सभ्‍यता के कैलेंडर ने दावा किया है कि कोरोना वायरस महासंकट के बीच 21 जून को यह दुनिया खत्‍म हो जाएगी। उन्‍होंने कहा कि कोरोना महामारी के बावजूद अभी सबसे खराब वक्त आना बाकी है। इस दावे के बाद लोग डरे हुए हैं और इंटरनेट पर यह वायरल हो रहा है। दुनिया में अब ज्यादातर लोगों द्वारा ग्रेगोरियन कैलेंडर का इस्तेमाल करते हैं। 1582 में ये कैलेंडर अस्तित्व में आया और इससे पहले लोग कई तरह के कैलेंडर का उपयोग करते थे। विशेषज्ञों के मुताबिक पृथ्वी को सूर्य की परिक्रमा करने में लगने वाले समय को बेहतर ढंग से दर्शाने के लिए ग्रेगोरियन कैलेंडर को पेश किया गया था।

कंगना रनौत ने सुशांत सिंह राजपूत की मौत पर पूछा क्या ये बॉलिवुड गैंग का प्लान मर्डर था?

वैज्ञानिक पाओलो के ट्वीट-

वैज्ञानिक पाओलो के ट्वीट के बाद अब लोगों का कहना है कि 21 जून 2020 दरअसल, 21 दिसंबर, 2012 है। बता दें कि वर्ष 2012 में भी इस तरह के दावे किए गए थे कि 21 दिसंबर को दुनिया खत्म हो जाएगी। वहीं इस दावे की शुरुआत उस दावे से हुई जिसमें कहा जा रहा था कि सुमेरिअन लोगों ने एक ग्रह नीबीरु की खोज की थी। निबिरू ग्रह अब पृथ्‍वी की ओर बढ़ रहा है। सबसे पहले दावा किया गया था कि मई 2003 में दुनिया का खात्‍मा हो जाएगा लेकिन जब ऐसा नहीं हुआ तो इसकी डेट बढ़ाकर 21 दिसंबर 2012 कर दी गई।

नासा का कहना-

नासा का कहना है कि कहानी यह दावा कर रही है कि सुमेरियों द्वारा खोजे गए ग्रह निबिरू का झुकाव पृथ्वी की ओर है। इस तबाही की शुरुआत मई 2003 के लिए की गई थी, लेकिन जब कुछ भी नहीं हुआ तो कयामत की तारीख दिसंबर 2012 को आगे बढ़ा दी गई और 2012 में प्राचीन माया कैलेंडर से इसे लिंक किया गया। इसलिए भविष्यवाणी की प्रलय का दिन 21 दिसंबर 2012। वहीं नासा ने कहा ऐसे कि‍सी दावे को हम नकारते हैं।

क्या सुशांत की एक्स गर्लफ्रेंड अंकिता लोखंडे को पता था कि ये हादसा होने वाला है?

ताजा खबरें