वायु प्रदूषण से बच्चों में बढ़ सकता है एनीमिया का खतरा: शोध में खुलासा

राष्ट्रीय स्वच्छ वायु कार्यक्रम (NCAP) के तहत बाल स्वास्थ्य में सुधार के लिए वायु प्रदूषण को नियंत्रित करने में भारत को काफी समय लग सकता है। एक नए शोध पत्र ने निष्कर्ष निकाला है कि पांच साल से कम उम्र के बच्चों में उच्च आउटडोर प्रदूषण और एनीमिया के प्रसार के बीच एक मजबूत संबंध है।

Updated On: Jan 11, 2021 14:29 IST

Dastak Web 1

Photo source: Google

राष्ट्रीय स्वच्छ वायु कार्यक्रम (NCAP) के तहत बाल स्वास्थ्य में सुधार के लिए वायु प्रदूषण को नियंत्रित करने में भारत को काफी समय लग सकता है। एक नए शोध पत्र ने निष्कर्ष निकाला है कि पांच साल से कम उम्र के बच्चों में उच्च आउटडोर प्रदूषण और एनीमिया के प्रसार के बीच एक मजबूत संबंध है। इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (IIT) दिल्ली और हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के TH चान स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ में सेंटर फॉर एटमॉस्फेरिक साइंसेज के नेतृत्व में किए गए एक शोध में पाया गया कि जिला स्तर पर हर 10 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर के लिए आउटडोर PM5.5 जोखिम में वृद्धि हुई है। औसत एनीमिया के प्रसार में 1.9% की वृद्धि हुई है। और औसत हीमोग्लोबिन का स्तर 0.07 g / dL (ग्राम प्रति डेसीलिटर) घटा है।

पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों में औसत हीमोग्लोबिन 0.14 ग्राम / डीएल की कमी हुई

व्यक्तिगत स्तर पर प्रत्येक 10 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर परिवेशी पीएम 2.5 के प्रदर्शन में वृद्धि के लिए पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों में औसत हीमोग्लोबिन 0.14 ग्राम / डीएल की कमी हुई है।  शोधकर्ताओं ने उच्चतर पीएम 2.5 के स्तर के साथ एनीमिया के संबंध की जांच करने के लिए राष्ट्रीय परिवार और स्वास्थ्य सर्वेक्षण 2015-16 के आंकड़ों का इस्तेमाल किया है। हमने राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण के आंकड़ों में शामिल बच्चों का भू-स्थान एकत्र किया। हमने सर्वेक्षण के समय उनके जन्म के वर्ष के आधार पर पीएम 2.5 सांद्रता के लिए उनके संपर्क का विस्तार किया। डेटा को आहार, मातृ एनीमिया प्रसार और बॉडी मास इंडेक्स के लिए समायोजित किया गया था।

सांद्रता की गणना के लिए उपग्रह डेटा का उपयोग किया

जिसका सभी एनीमिया प्रसार पर असर पड़ता है। स्वच्छ हवा (CCACA) पर उत्कृष्टता केंद्र के समन्वयक और स्कूल के एसोसिएट सग्निक डे ने कहा कि आईआईटी दिल्ली टीम ने वायु प्रदूषण की सांद्रता की गणना के लिए उपग्रह डेटा का उपयोग किया है। जिला-स्तरीय विश्लेषण के लिए एक्सपोज़र पाँच-वर्षीय औसत परिवेश PM2.5 प्रति जिले के एक्सपोज़र पर आधारित था। जबकि व्यक्तिगत स्तर का विश्लेषण जन्म के वर्ष पर आधारित था। हमारे विश्लेषण से पता चलता है कि आहार और एनीमिया के अन्य ज्ञात कारणों जैसे कि मातृ एनीमिया के अलावा वायु प्रदूषण भी एनीमिया के विकास और प्रसार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

2016 तक भारत में लगभग 60% बच्चे एनीमिक थे

हमने जैविक तंत्र पर भी चर्चा की है जिसके माध्यम से वायु प्रदूषण एनीमिया के लिए जोखिम कारक हो सकता है। उच्च वायु प्रदूषण का स्तर प्रतिकूल हृदय, श्वसन और मृत्यु दर परिणामों से जुड़ा हुआ है। बच्चों के लिए यह कम वजन और पिछले शोध में वृद्धि के साथ जुड़ा हुआ है। अध्ययन से पता चलता है कि 2016 तक भारत में लगभग 60% बच्चे एनीमिक थे। 2011 में नेशनल आयरन प्लस इनिशिएटिव की शुरूआत ने 6-7 साल की आयु के बच्चों को राष्ट्रीय पोषण एनीमिया प्रोफिलैक्सिस प्रोग्राम के लाभार्थियों का विस्तार करने की मांग की।

और अब बर्ड फ़्लू!

हालांकि 2006 से 2016 के बीच एनीमिया में लगभग 11% की कमी आई है। लेकिन यह आयरन के साथ फोर्टिफायड इसतेमाल भोजन में वृद्धि के बावजूद एक प्रमुख मुद्दा बना हुआ है। यह स्पष्ट है कि बचपन के एनीमिया के अन्य संभावित जोखिम कारकों की पहचान की जानी चाहिए और उन्हें समझा जाना चाहिए। NCAP के पास कानूनी जनादेश नहीं है। लेकिन इसका लक्ष्य 2024 तक 100 से अधिक शहरों में 2017 के स्तरों से PM 2.5 सांद्रता में 20% से 30% की कमी को प्राप्त करना है।

हार्ट बीट से कोरोना पॉजिटिव होने का लगा सकते हैं पता! स्टडी में दावा

ताजा खबरें