चेतावनी! प्रोसेस्ड फूड खाने से समय से पहले हो सकती है मौत

आज के इस दौर में लोगों का स्वस्थ रहना बहुत जरूरी है। और स्वस्थ रहने के लिए अच्छा खान पान बहुत जरूरी है। लेकिन मौजूदा समय में लोग ताजी हरी सब्जियों को छोड़कर प्रोसेस्ड फूड की तरफ ज्यादा आगे बढ़ रहे हैं।

Updated On: Jan 11, 2021 18:49 IST

Dastak Web 1

Photo source: Google

आज के इस दौर में लोगों का स्वस्थ रहना बहुत जरूरी है। और स्वस्थ रहने के लिए अच्छा खान पान बहुत जरूरी है। लेकिन मौजूदा समय में लोग ताजी हरी सब्जियों को छोड़कर प्रोसेस्ड फूड की तरफ ज्यादा आगे बढ़ रहे हैं। इसका कारण यह है कि यह हमें आसानी से मिल जाते हैं। तो वहीं इसे हम लंबे समय तक फ्रिज में भी रख सकते हैं। लेकिन यह हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी नुकसान दायक हैं। प्रोसेस्ड फूड और उससे जुड़े फैक्ट्स पर आधारित इस पोस्ट के माध्यम से हम जानेंगे कि आखिर क्यों हमें प्रोसेस्ड फूड का सेवन नहीं करना चाहिए।

प्रोसेस्ड फूड सेहत के लिए खराब हैं

प्रोसेस्ड फूड सेहत के लिए खराब होते हैं और इससे जितना हो सके बचा जाना चाहिए। कुछ लोग अभी भी बहुत सारे प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थों जैसे कि पिज्जा, बर्गर, शुगर स्नैक्स, केक आदि का सेवन करते हैं। लेकिन एक अध्ययन के अनुसार अमेरिकन जर्नल ऑफ़ क्लिनिकल न्यूट्रीशन में यह पाया गया है कि एडेड शुगर प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थ का सेवन करने से हृदय रोग और यहां तक कि समय से पहले मृत्यु तक हो सकती है।

प्रोसेस्ड फूड किन खाद्य पदार्थों को कहते हैं

सामान्य शब्दों में प्रोसेस्ड फूड उन खाद्य पदार्थों को कहते हैं जिसे वास्तविक व प्राकृतिक रूप से बदल दिया जाता है। इंटरनेशनल फूड इंफॉर्मेशन काउंसिल के अनुसार किसी भी प्रकार के खाद्य पदार्थ को खाने से पहले किए जाने वाले बदलाव को प्रोसेस्ड फूड में शामिल किया जाता है। जैसे गर्म करना, पाश्चुरीकरण करने के साथ डिब्बा बंद करना व खाद्य पदार्थ को सुखाना प्रोसेस्ड फूड में आता है। इसे ठीक उसी प्रकार समझा जा सकता है। जैसे आम के पेड़ से सीधे फल तोड़कर ना खाकर या फिर गन्ने का रस सीधे ना पीकर कुछ दिनों के बाद उसका सेवन किसी दूसरी चीज के रूप में करें तो उसे प्रोसेस्ड फूड कहा जाता है।

खाने की आदतों और स्वास्थ्य परिणामों पर डेटा एकत्र किया

इनसाइडर की एक रिपोर्ट के अनुसार, इतालवी शोधकर्ताओं के एक समूह ने 24,325 ऐसे पुरुषों और महिलाओं जिनकी उम्र 35 वर्ष और उससे अधिक थी का अनुसरण किया। साथ ही 10 साल तक के बच्चों के खाने की आदतों और स्वास्थ्य परिणामों पर डेटा एकत्र किया। यह पाया गया कि जिन प्रतिभागियों ने बहुत सारे अल्ट्रा प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थ खाए। उनमें हृदय रोग, दिल का दौरा या स्ट्रोक से मरने का खतरा अधिक था।

वायु प्रदूषण से बच्चों में बढ़ सकता है एनीमिया का खतरा: शोध में खुलासा

आउटलेट का उल्लेख है कि जिन प्रतिभागियों ने अधिक अनहेल्दी अल्ट्रा प्रोसेस्ड फूड खाया है। उन्हें अल्ट्रा संसाधित भोजन के रूप में अपने दैनिक कैलोरी का कम से कम 15 प्रतिशत प्राप्त हुआ है। वहीं प्रोसेस्ड फूड का सेवन करने से एक दिन में 300 से 1,250 कैलोरी प्राप्त हुआ। प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थ अल्ट्रा प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थ की तुलना में हॉट डॉग, कैंडी बार, सोडा और इसी तरह के दो से आठ सर्विंग्स के बराबर है।

अल्ट्रा प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थ अधिक स्वादिष्ट होते हैं

इस प्रकार उस श्रेणी के लोगों को अपने साथियों की तुलना में हृदय रोगों से मृत्यु की संभावना 58 प्रतिशत अधिक थी। जो कम से कम अल्ट्रा प्रोसेस्ड भोजन का (लगभग एक दिन में एक से अधिक नहीं) का सेवन करते थे। इसके अलावा उनमे एक स्ट्रोक, या एक अन्य प्रकार के सेरेब्रोवास्कुलर रोग से मरने की संभावना 52 प्रतिशत अधिक थी। पहले से किए गए अध्ययनों से यह भी समझा गया है कि अल्ट्रा प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थ अधिक स्वादिष्ट होते हैं। जिससे हमें भूख लगने पर अधिक भोजन करने और वजन बढ़ने को बढ़ावा मिलता है।

किडनी को स्वस्थ रखने के लिए जान लें ये टिप्स वरना…

ताजा खबरें