World Anti Drug Day 2020: जानें, इस दिन का इतिहास, महत्व और क्यों मनाया जाता है

InternationalDay Against Drug Abuse And Illicit Trafficking यानी वर्ल्ड एंटी ड्रग डे हर साल 26 जून को मनाया जाता है। वर्ल्ड एंटी ड्रग डे 2020 की थीम इस बार बेटर नॉलेज फॉर बेटर केयर रखी गई है।

Updated On: Jun 26, 2020 14:33 IST

Dastak Web

Photo Source: Pixabay

World Anti Drug Day 2020: नशीली दवाओं के दुरुपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय दिवस (International Day Against Drug Abuse And Illicit Trafficking) यानी वर्ल्ड एंटी ड्रग डे हर साल 26 जून को मनाया जाता है। वर्ल्ड एंटी ड्रग डे 2020 की थीम इस बार बेटर नॉलेज फॉर बेटर केयर रखी गई है। इस थीम का उद्देश्य वर्ल्ड ड्रग डे की समझ में सुधार करने की आवश्यकता पर जोर देना है और बेहतर ज्ञान स्वास्थ्य, शासन और सुरक्षा पर इसके प्रभाव का मुकाबला करने के लिए अधिक से अधिक अंतर्राष्ट्रीय सहयोग को बढ़ावा देना है। यह दिन नशीली दवाओं के दुरुपयोग के उन्मूलन के लिए समर्पित है और चुनौतियों को बेअसर करता है जो अवैध नशीली दवाओं के मुद्दों को बनाए रखते हैं।

नशीले प्रदार्थ न केवल कोकीन, अफीम, भांग आदि दवाओं के रूप में शामिल हैं,  बल्कि नशीली दवाओं की खपत दर्द निवारक और नींद की गोलियों के रूप में दवाओं में भी शामिल हैं। वर्ल्ड ड्रग रिपोर्ट 2017 के अनुसार, संयुक्त राष्ट्र ऑन ड्रग्स एंड क्राइम (UNODC) कार्यालय द्वारा एक रिपोर्ट में लगभग एक अरब लोगों ने 2015 में कम से कम एक बार इन दवाओं का इस्तेमाल किया।

वर्ल्ड एंटी ड्रग डे का इतिहास-

संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) ने 26 जून को नशीली दवाओं के दुरुपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय दिवस के रूप में दिसंबर 1987 में नामित किया। वियना में संयुक्त राष्ट्र की एक सम्मेलन में नशीली दवाओं के दुरुपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ 17 से 26 जून 1987 के दौरान फैसला लिया गया। इस फैसले के मुताबिक इसके विरोध को दर्शाते हुए पूरा विश्व 26 जून को हर साल वर्ल्ड एंटी ड्रग डे के रूप में मनाता है।

वर्ल्ड एंटी ड्रग डे 2020 का महत्व-

नशीली दवाओं के दुरुपयोग और अवैध रूप से तस्करी के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय दिवस का उपयोग दुनियाभर के लोगों, खासकर युवाओं और किशोरों में जिम्मेदारी की भावना को प्रोत्साहित करने के लिए मनाया जाता है। दुनिया भर के स्कूलों, कॉलेजों, कार्यस्थलों, सार्वजनिक स्थलों पर कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं ताकि लोगों को पूरे मामले से अवगत कराया जा सके और ड्रग्स के खतरों और उनके उपयोग के बारे में बताया जा सके।

सुशांत सिंह राजपूत पर क्रिकेटर मनोज तिवारी की अपील, कहा- मामले की हो निष्पक्ष जांच

संयुक्त राष्ट्र अपनी नशीली दवाओं के दुरुपयोग की आर्म, यूनाइटेड नेशन ऑफिस ऑन ड्रग्स एंड क्राइम (UNODC) की मदद से जागरूकता फैलाता है। साथ ही सरकारों से नार्को अर्थव्यवस्था को उत्तेजित करने से बचने और कानूनी दवा व्यवसायों के विभाजन और दवाओं के अवैध व्यापार से निपटने का आग्रह करता है।

राजीव गांधी फाउंडेशन और चीन को लेकर क्यों फंसी कांग्रेस पार्टी, जानें यहां

ताजा खबरें