मप्र में मास्क न लगाने पर अनोखी सजा

मध्य प्रदेश में कोरोनावायरस के बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर सरकार और प्रशासन द्वारा सख्त कदम उठाए जा रहे हैं। ग्वालियर में प्रशासन ने तय किया है कि जो भी व्यक्ति बिना मास्क के मिलेगा उसे खुली जेल में रहने के साथ कोरोना पर निबंध लिखने की सजा दी जा रही है।

Updated On: Dec 6, 2020 11:47 IST

Dastak Web 1

Photo Source : Google

मध्य प्रदेश में कोरोनावायरस के बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर सरकार और प्रशासन द्वारा सख्त कदम उठाए जा रहे हैं। ग्वालियर में प्रशासन ने तय किया है कि जो भी व्यक्ति बिना मास्क के मिलेगा उसे खुली जेल में रहने के साथ कोरोना पर निबंध लिखने की सजा दी जा रही है। ग्वालियर के जिलाधिकारी कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने बताया है कि कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए प्रशासन द्वारा रोको टोको अभियान चलाया जा रहा है। जन जागृति के साथ-साथ लापरवाही बरतने वालों के विरूद्ध चालान की कार्रवाई के साथ-साथ खुली जेल में भेजने का काम भी किया जा रहा है।

20 लोगों को रूपसिंह स्टेडियम स्थित खुली जेल में भेजा गया

शनिवार को लगभग 20 लोगों को रूपसिंह स्टेडियम स्थित खुली जेल में भेजा गया और वहां पर कोरोना विषय पर निबंध भी लिखवाया गया। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने कहा कि शहर में लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं कर रहे हैं। साथ ही बिना मास्क के भी घूमते लोग पाए जा रहे हैं। खासकर युवा बिना मास्क के गाड़ियों में घूमते मिलते हैं। इसके साथ ही कुछ लोग मास्क को व्यवस्थित रूप से न लगाकर केवल गले में टांगकर भी घूम रहे हैं। कोरोना संक्रमण को देखते हुए सभी को विशेष सावधानी बरतना आवश्यक है।

जम्मू एवं कश्मीर, लद्दाख में बदला मौसम का मिजाज़ होगी बारिश और बर्फबारी

जिला महिला एवं बाल विकास अधिकारी राजीव सिंह ने बताया कि जिला प्रशासन द्वारा रूपसिंह स्टेडियम में बनाई गई खुली जेल में शनिवार को लगभग 20 युवाओं को बिना मास्क के घूमते पाए जाने पर लाया गया और सभी से कोरोना विषय पर निबंध लिखवाया गया। उन्होंने बताया कि शहर में प्रतिदिन चेकिंग के दौरान जो लोग भी बिना मास्क के पाए जायेंगे उन्हें खुली जेल में ले जाया जायेगा।

--आईएएनएस

एसएनपी-एसकेपी

धर्मांतरण विरोधी कानून के तहत गिरफ्तार किए गए आरोपी के परिवार ने पुलिस पर लगाए आरोप

ताजा खबरें