डेल्टा प्लस वैरिएंट के महाराष्ट्र में आए 20 मामले सामने, कोरोना पॉजिटिव मामलों की जांच में आया सामने

महाराष्ट्र (Maharashtra) में डेल्टा प्लस (Delta Plus) के नाम से जाने जाने वाले Sars-CoV-2 वैरिएंट AY.1 कोरोना वैरिएंट के 20 मामले सामने आए हैं।

Updated On: Jun 21, 2021 11:34 IST

Dastak

Photo Source: Google

महाराष्ट्र (Maharashtra) में डेल्टा प्लस (Delta Plus) के नाम से जाने जाने वाले Sars-CoV-2 वैरिएंट AY.1 कोरोना वैरिएंट के 20 मामले सामने आए हैं। महाराष्ट्र के चार जिलों- सिंधुदुर्ग, रत्नागिरी, पालघर और जलगाँव में लिए गए कोरोन नमूनों में ये वैरिएंट पाया गया है। राज्य सरकार ने मीडिया को जानकारी दी है कि उन्होंने जीनोम अनुक्रमण के लिए और नमूने भेजे हैं ताकी यह पता चल सके कि नया वैरिएंट प्रभावी रुप दिखा रहा है या फिर ये टुकडों में फैला हुआ है।

अंग्रजी अखबार हिंदुस्तान टाईम्स की रिपोर्ट के मुताबिक डेल्टा प्लस वैरिएंट डेल्टा वेरिएंट में म्यूटेंट की फोर्मेशन से बना है। इसे अभी तक केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा चिंता के रुप में वर्गीकृत नहीं किया गया है। अप्रैल में महाराष्ट्र सरकार ने काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च (CSIR) इंस्टीट्यूट ऑफ जीनोमिक्स एंड इंटीग्रेटिव बायोलॉजी (IGIB) के साथ एक समझौता किया था। जिसके तहत हर महीने राज्य के 36 जिलों में से 100 कोरोना पॉजिटिव नमूने लिए जा रहे हैं। जीनोम अनुक्रमण समय के साथ वायरस की संरचना में परिवर्तन का अध्ययन करने के लिए एक अभ्यास है।

राज्य के स्वास्थय मंत्री ने इस संबध में मीडिया से सोमवार तक किसी भी तरह की चर्चा करने से इंकार कर दिया है। उन्होंने बताया है कि उन्हें सीएसआईआर से जीनोम की रिपोर्ट मिल गई है। “सीएसआईआर-आईजीआईबी ने राज्य के 36 जिलों से लिए गए कोरोना पॉजिटिव मरीजों के सैंपल के आधार पर एक रिपोर्ट तैयार की है। मंत्री ने मीडिया को बताया कि आज होने वाली बैठक के बाद ही वो किसी निष्कर्ष पर पहुंचेंगे।

अखबार की रिपोर्ट के अनुसार रत्नागिरी में सिवित सर्जन डॉ संघमित्रा गावड़े ने कहा है कि उन्हें डेल्टा-प्लस वैरिएंट यहां होने से संबधित कोई रिपोर्ट नहीं मिली है। लेकिन यहां से जीनों अनुक्रमण के लिए 50 नमूने उन्होंने नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी को भेजे गए हैं। उन्होंने बताया हम रैंडल तरीके से उन क्षेत्रों से नमूने एकत्र कर रहे हैं जहां कोरोना के अधिक मामले आ रहे हैं।

ग्रीन फंगस क्या है? जानें इसके लक्षण और रोकथाम के उपाय

इस सप्ताह की शुरुआत में नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल ने बताया था कि ये वैरिएंट सबसे पहले मार्च में यूरोप में देखा गया था।

Toyota Door Delivery: अगर आपके पास टोयोटा की कार है तो अब आप घर बैठे मंगा सकते हैं Parts

ताजा खबरें