अडानी समूह ने एनडीटीवी के 29.18% हिस्से को खरीदने की घोषणा की, लोगों ने पूछा रवीश का क्या होगा

अडानी समूह ने एनडीटीवी के 29.18% हिस्से को खरीदने की घोषणा कर दी है। इससे सोशल मीडिया पर पत्रकार रवीश कुमार को लेकर सवाल उठने लगे हैं कि अब उनका क्या होगा?

Updated On: Aug 23, 2022 19:09 IST

Dastak

Photo Source- Google

अडानी समूह ने एनडीटीवी के 29.18% हिस्से को खरीदने की घोषणा कर दी है। इससे सोशल मीडिया पर पत्रकार रवीश कुमार को लेकर सवाल उठने लगे हैं कि अब उनका क्या होगा? क्या वो अब खुद ही एनडीटीवी छोड़ जाएंगे या उन्हें चैनल से निकाल दिया जाएगा। अडानी ग्रुप की सहायक कंपनी एएमजी मीडिया नेटवर्क्स लिमिटेड ने एक बयान जारी कर कहा है कि वो अप्रत्यक्ष रूप से नई दिल्ली टेलीविजन लिमिटेड (एनडीटीवी) में 29.18% हिस्सेदारी का अधिग्रहण करेगी और मीडिया हाउस में एक और 26% हिस्सेदारी के लिए एक खुली पेशकश शुरू करेगी।

अडानी से जुड़ी संस्था ने एनडीटीवी में 26 प्रतिशत की हिस्सेदारी के लिए भी खुली पेशकश दी है। जिसमें उसने 294 रुपए प्रति शेयर की दर से 493 करोड़ रुपए की पेशकश की है। इसके बाद एनडीटीवी के शेयरों में आज पांच प्रतिशत की बढ़ोतरी देखने को मिली है। एनडीटीवी के शेयर आज ₹376.55 पर बंद हुए।

आपको बता दें अडानी मीडिया नेटवर्क लिमेटेड (AMNL) की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी VCPL के पास RRPR होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड (RRPR) का वारंट है, जिससे वो RRPR में 99.99% हिस्सेदारी को बदल सकते हैं। इसी का प्रयोग अडानी की कंपनी ने किया है। वो अब आरआरपीआर का स्वामीत्व हासिल कर लेंगे। RRPR इसलिए जरुरी हो जाती है क्योंकि ये NDTV की प्रमोटर ग्रुप कंपनी है और NDTV में 29.18% हिस्सेदारी रखती है। ये हिस्सेदारी हासिल करने के बाद अडानी समूह 26 प्रतिशत की अतिरिक्त हिस्सेदारी हासिल करने के लिए पेशकर कर रहा है।

जेएम फाइनेंशियल लिमिटेड द्वारा एक सार्वजनिक घोषणा की गई है, जो अधिग्रहणकर्ताओं की ओर से प्रस्ताव का प्रबंधन कर रही है। ऑफर में कहा गया है, "ऑफ़र प्राइस सेबी (एसएएसटी) रेगुलेशन के रेगुलेशन 8 (2) के अनुसार निर्धारित कीमत से अधिक है।"

आपको बता दें एनडीटीवी एक प्रमुख मीडिया हाउस है, जो तीन राष्ट्रीय समाचार चैनलों - एनडीटीवी 24x7, एनडीटीवी इंडिया और एनडीटीवी प्रॉफिट का संचालन करता है। इसकी मजबूत ऑनलाइन उपस्थिति भी है और यह विभिन्न प्लेटफार्मों पर 35 मिलियन से अधिक यूजर बेस के साथ सोशल मीडिया पर सबसे अधिक फॉलो किए जाने वाले समाचारों में से एक है।

सरकार ने हाईकोर्ट के 37 जजों के नाम को दी स्वीकृति, सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम ने भेजी थी 250 नामों की सिफारिश

ताजा खबरें