अदार पूनावाला बोले जुलाई तक रहेगी कोरोना टीकों की भारत में कमी, इसलिए नहीं बढ़ाया था उत्पादन

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अदार पूनावाला ने कहा है कि वैक्सीन की कमी जुलाई तक रहेगी। पूनावाला ने कहा है कि जुलाई में टीके के उत्पादन में लगभग 60 से 70 मिलियन की वृद्धि होने की उम्मीद है।

Updated On: May 3, 2021 10:29 IST

Dastak

Photo Source: Google

भारत कोरोनावायरस की दूसरी लहर से गुजर रहा है। भारत इस समय कोरोना वैक्सीन की भी भारी कमी से जूझ रहा है। कोरोना से बचने के लिए सभी खुद को जल्द से जल्द वैक्सीनेटिड कर लेना चाहते हैं। इसी बीच सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अदार पूनावाला ने कहा है कि वैक्सीन की कमी जुलाई तक रहेगी। अंग्रेजी अखबार फाइनेंशियल टाइम्स ’की रिपोर्ट के अनुसार, पूनावाला ने कहा है कि जुलाई में टीके के उत्पादन में लगभग 60 से 70 मिलियन की वृद्धि होने की उम्मीद है, एक महीने का उत्पादन 100 मिलयन (10 करोड) के करीब हो जाएगा। भारत में टीकों की ये कमी ऐसे समय आई है जब देश ने एक मई से सभी 18 साल से 45 साल वालों के लिए टीकाकरण अभियान शुरु कर दिया है।

किसी को नहीं लगा था कि भारत कोरोना की दूसरी लहर का सामना करेगा-

रिपोर्ट में पूनावाला के हवाले से कहा गया है कि अधिकारियों को जनवरी में कोरोना की एक दूसरी लहर का सामना करने की उम्मीद नहीं थी। उस समय नए कोविड-19 मामलों में गिरावट आई थी। "हर किसी को लग रहा था कि भारत ने इस बीमारी पर विजय पा ली है। अपनी कंपनी का बचाव करते हुए पूनावाला ने कहा कि टीके की कमी के चलते राजनेताओं ने और आलोचकों ने उनकी कंपनी को बदनाम करना चाहा है।

ऑर्डर नहीं थे इसलिए नहीं बढ़ाया वैक्सीन का उत्पादन-

उन्होंने अखबार को बताया, "मुझे बहुत गलत तरीके से सताया गया है," उन्होंने कहा कि पहले उन्होंने वैक्सीन बनाने की क्षमता नहीं बढ़ाई क्योंकि उनके पास ऑर्डर नहीं थे। हमें तब नहीं लग रहा था कि एक साल में एक बिलयन खुराक से अधिक की जरुरत होगी। इससे पहले आदर पूनावाला ने ट्विटर पर पोस्ट किया कि यूके में हमारे पार्टनस और स्टेकहोल्डर्स के साथ बडी अच्छी मीटिंग हुआ है। पूणे में कोवीशील्ड का प्रोडेक्शन जोरो पर है। मैं कुछ दिनों में अपनी वापसी के बाद वैक्सीन के उत्पादन की समीक्षा करने के लिए उत्सुक हूं।

सीरम इंस्टिट्यूट वाले अदार पूनावाला को Y कैटेगरी सुरक्षा, वैक्सीन है हजारों करोड़ों का खेल !

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया एस्ट्राज़ेनेका और ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय द्वारा विकसित कोविड-19 वैक्सीन का उत्पादन कर रहा है, अब तक के आंकडों के अनुसार 90% वैक्सीन भारतीय नागरिकों को ही दी गई है।

रुस से भारत आई स्पूतनिक V वैक्सीन की पहली खेप, अभी अप्रुवल के लिए भेजी जाएगी

ताजा खबरें