भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकुल रॉय ने ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस में की घर वापसी

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकुल रॉय (Mukul Roy) ने ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस में घर वापसी कर ली है। मुकुल ने अपने बेटे और पूर्व विधायक सुभ्रांशु के साथ शुक्रवार को भाजपा छोड़ तृणमूल (Trinamool Congress) का दामन थाम लिया।

Updated On: Jun 11, 2021 19:12 IST

Dastak

Photo Source- Social Media

सभी तरह के अटकलों के बाजार पर विराम लगाते हुए आखिरकार भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकुल रॉय ने ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस में घर वापसी कर ली है। मुकुल ने अपने बेटे और पूर्व विधायक सुभ्रांशु के साथ शुक्रवार को भाजपा छोड़ तृणमूल का दामन थाम लिया। इससे पहले वीरवार को मुकुल रॉय अपने बेटे के साथ तृणमूल भवन पहुंचे थे। जहां उन्होंने पार्टी में शामिल होने से पहले तृणमूल सुप्रीमों और बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और पार्टी के अन्य नेताओं से मुलाकात की थी।

ममता ने रॉय की अपनी पार्टी में वापसी पर कहा कि मुकुल रॉय आज अपनी जड़ों में लौट आए हैं। वह भाजपा में काम नहीं कर सके। उन्होंने चुनाव के दौरान कोई भी टीएमसी विरोधी बयान नहीं दिया। वो अपनी पुरानी पार्टी में आकर शांति महसूस कर रहे हैं। बीजेपी ने उन्होंने राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया लेकिन वे वहां अपने काम से संतुष्ट नहीं थे। उन्होंने कहा मुकुल हमारी पार्टी में अपनी पहले जैसी भूमिकाएं निभाते रहेंगे।

वहीं टीएमसी में फिर से शामिल होने के बाद रॉय ने अपने संबोधन में कह कि मुझे यहां अपने पुराने सहयोगियों को देखकर अच्छा महसूस हो रहा है। बंगाल ममता बनर्जी के नेतृत्व में अपना गौरव फिर से प्राप्त करेगा। उन्होंने कहा कि मैंने बीजेपी क्यों छोड़ी मैं इसपर एक लिखित बयान जारी करुंगा। उन्होंने कहा मौजूदा हालातों में कोई भी बीजेपी में नहीं रह सकता है।

यह सभी घटनाक्रम टीएमसी के बंगाल विधानसभा चुनाव भारी मतों से जीतने के एक महीने बाद सामने आए हैं। टीएमसी ने 292 सीटों में से 213 सीटों पर जीत हासिल की है। मुकुल रॉय ने भी बीजेपी की टिकट पर कृष्णानगर उत्तर सीट पर चुनाव लड़ा था। इस चुनाव में हार के बाद रॉय बीजेपी से अपनी दूरियां बनाने में जुटे हुए थे।

हरियाणा बोर्ड 10वीं का परीक्षा परिणाम में सभी छात्र पास कोई भी टॉपर नहीं, यहां देखें रिजल्ट

ममता बनर्जी के बेहद करीबी रहने वाले रॉय ने सितंबर 2017 में टीएमसी से इस्तीफा दे दिया था। टीएमसी ने भी उन्हें पार्टी विरोधी गतिविधियों के नाम पर छह साल के लिए निलंबित कर दिया था। उन्होंने नवंबर 2017 में ही बीजेपी का दामन थामा था। इसके बाद सितंबर 2020 में बीजेपी ने उन्हें अपना राष्ट्रीय महासचिव बना दिया था। रॉय के बेटे सुभ्रांशु भी 2019 में बीजेपी में शामिल हो गए थे। सुभ्रांशु भी इस साल के विधानसभा चुनाव में बीजपुर सीट से हार गए थे।

नवी मुंबई एयरपोर्ट का नाम बाल ठाकरे होने के प्रस्ताव पर बीजेपी को आपत्ती, जताया विरोध

ताजा खबरें