चीन ने अरुणाचल प्रदेश से लापता पांच युवकों को भारत को सौंपा, जानें पूरा मामला

भारत-चीन के बीच बीते कई दिनों से विवाद काफी बढ़ता जा रहा है। लेकिन दोनों देशों के बीच शांति बनाये रखने को लेकर बातचीत चल रही है। इसी बीच अब चीन ने आज अरुणाचल प्रदेश से लापता हुए पांच युवकों को भारत को सौंपा है।

Updated On: Sep 12, 2020 15:51 IST

Dastak Online

Photo Source: Google

भारत-चीन के बीच बीते कई दिनों से विवाद काफी बढ़ता जा रहा है। लेकिन दोनों देशों के बीच शांति बनाये रखने को लेकर बातचीत चल रही है। इसी बीच अब चीन ने आज अरुणाचल प्रदेश से लापता हुए पांच युवकों को भारत को सौंपा है। चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने इन सभी को किबितु में भारतीय सेना के हवाले कर दिया है।

न्यूज़ एजेंसी एएनआई के अनुसार, ये पांचों युवक अरुणाचल प्रदेश के अपर सुबांसिरी जिले में चीन-भारत सीमा से लापता हो गए थे। जिसके बाद इन सभी के पाए जाने की पुष्टि चीनी एरिया में हुई थी। लापता इन युवकों के पाए जाने की पुष्टि करते हुए कहा कि लापता हुए पांच युवक उन्हें सीमापार मिले थे। यही नहीं, केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू ने भी शुक्रवार को ट्वीट कर बताया था कि चीन की पीएलए ने भारतीय सेना से इस बात की पुष्टि की है कि वह अरुणाचल प्रदेश के युवकों को हमें सौंप देंगे।

तेजपुर में रक्षा प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल हर्ष वर्धन पांडे ने बताया कि पीएलए ने आवश्यक औपचारिकताएं पूरी करने के बाद इन युवाओं को भारतीय सेना को सौंप दिया। प्रवक्ता ने कहा, कोविड-19 संबंधी प्रोटोकॉल के अनुरूप पांचों युवकों को 14 दिन के लिए क्वारंटाइन में रखा जाएगा। और उसके बाद उन्हें उनके परिजन को सौंप दिया जाएगा।

Microsoft Teams में शामिल हुई नई ऐप ‘लिस्ट’

जानें, कैसे चीन के चंगुल में फंसे ये लोग-

दरअसल, मामला ये है कि करीब सात लोग मिलकर राज्य के ऊपरी सुबनसिरी जिले में भारत-चीन सीमा के पास जंगल में शिकार करने गये थे। जिनमे से करीब 5 लोगों का चीनी सेना ने अपहरण कर लिया था। लापता युवकों में से एक के रिश्तेदार प्रकाश रिंगलिंग ने अपने फेसबुक पोस्ट में पहली बार इस बारे में लिखा था। लापता युवकों की पहचान टोच सिंगकम, प्रसात रिंगलिंग, डोंगटू एबिया, तनु बाकेर और गारू डिरी के रूप में हुई थी।

पहले गरीब सरकार के पीछे दौड़ता था, अब सरकार लोगों के पास जाती है: पीएम मोदी

ताजा खबरें