दिल्ली में कोवैक्सीन अब केवल 18-45 आयुवर्ग में दूसरी डोज वालों को दी जाएगी, जानें पूरा मामला

राजधानी दिल्ली (Delhi) में अब कोवैक्सीन (Covaxin) केवल 18-45 उम्र वर्ग में सेकेंड डोज (Second Dose) वालों को ही दी जाएगी। दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार ने ये जानकारी दिल्ली उच्च न्यायालय को दी है।

Updated On: Jun 8, 2021 11:06 IST

Ajay Chaudhary

Photo Source- Twitter

राजधानी दिल्ली (Delhi) में अब कोवैक्सीन (Covaxin) केवल 18-45 उम्र वर्ग में सेकेंड डोज (Second Dose) वालों को ही दी जाएगी। दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार ने ये जानकारी दिल्ली उच्च न्यायालय को दी है। सरकार ने कोर्ट को बताया है कि उसने सभी सरकारी टीकाकरण केंद्रों, निजी अस्पतालों और नर्सिंग होम को निर्देश दिया है कि कोवैक्सिन का टीका केवल उन लोगों को लगाया जाएगा जिनका 18-45 आयु वर्ग में दूसरी खुराक का समय हो गया है। इस आदेश के बाद दिल्ली में जिन लोगों ने कोवैक्सीन की पहली खुराक के लिए ऑनलाईन स्लॉट बुक किए थे उन्हें रद्द कर दिया गया है।

मीडिया में आई खबर के मुताबिक दिल्ली सरकार के वकील अनुज अग्रवाल ने दिल्ली हाईकोर्ट में न्यायाधीश रेखा पाली को बताया कि अतिरिक्त 40 हजार कोवैक्सीन की डोज उनके पास छह जून को आ गई हैं। उन्होंने बताया कि जिन लोगों का दूसरी डोज लगवाने का समय पूरा हो गया है उन्हें चार से छह सप्ताह के अंदर हम वैक्सीन लगा देंगे।

दिल्ली हाईकोर्ट में इसे लेकर दिल्ली के तीन निवासियों ने याचिका दर्ज कर कहा था कि उनका कोवैक्सीन का दूसरी डोज का समय पूरा हो गया है लेकिन राजधानी में उन्हें इसकी दूसरी डोज नहीं मिल पा रही है। तय समय के भीतर उन्हें दूसरी डोज के लिए राज्य से बाहर मेरठ और चंडीगढ़ जैसी जगहों पर जाकर टीका लगवाने को मजबूर होना पड़ रहा है।

सरकारी वकील ने कोर्ट को बताया कि दिल्ली सरकार ने और दिल्ली आपदा प्रबंधन ने छह जून को ही सभी निजी अस्पतालों और नर्सिंग होम को आदेश दिया है कि वे कोवैक्सीन दूसरी खुराक वालों को ही लगाना सुनिश्चित करें। दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग ने 3 जून को सभी सरकारी कोविड -19 टीकाकरण केंद्रों को इसी तरह का आदेश पहले ही जारी कर दिया था।

कोर्ट में सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ताओं ने कहा कि 25 मई से जून के बीच शहर में कोवैक्सिन की कोई खुराक उपलब्ध नहीं थी और कई लोगों के लिए दूसरी खुराक लेने की छह सप्ताह की अवधि 14 जून को समाप्त हो रही है। कोर्ट ने इस संबध में केंद्र और दिल्ली सरकार से कहा कि वह देखे कि दूसरी खुराक के लिए खोले जा रहे स्लॉटों की संख्या को बढ़ाया जा सके और मामले को 11 जून के लिए स्थगगित कर दिया।

स्वास्थय मंत्रालय ने कोरोना इलाज में इस्तेमाल होने वाली इन दवाओं को अपने दिशानिर्देशों से किया बाहर

इस पर केंद्र सरकार के वकील अनुराग अहलूवालिया ने कोर्ट को बताया कि कोविन सिस्टम वैक्सीन के लाभार्थियों की सूची प्रदान करता है। जिससे पता चलता है कि किसकी दूसरी डोज का समय हो गया है। इस सूची में लाभार्थियों के नाम और संपर्क सुत्र भी होता है जिससे जिला अधिकारी दूसरी डोज के समय वाले व्यक्तियों को आसानी से ट्रैक कर सकती है।

दिल्ली विश्वविद्यालय कोरोना महामारी में अपने माता-पिता को खोने वाले छात्रों की फीस पूरी तरह करेगा माफ

ताजा खबरें