कोवैक्सीन कोरोनावायरस के ब्राजील, ब्रिटेन और भारतीय वैरियेंट के खिलाफ है प्रभावी: अध्ययन

भारत बायोटेक (Bharat Biotech) की कोरोना वायरस पर बनाई गई वैक्सीन "कोवैक्सीन" (Covaxin) पर किए गए एक अध्यनन में सामने आया है कि ये वैक्सीन कोरोना वायरस के ब्राजील वैरियेंट SARS-CoV-2, B.1.128.2 के खिलाफ प्रभावी है।

Updated On: May 4, 2021 11:28 IST

Dastak

Photo Source- Twitter

भारत बायोटेक (Bharat Biotech) की कोरोना वायरस पर बनाई गई वैक्सीन "कोवैक्सीन" (Covaxin) पर किए गए एक अध्यनन में सामने आया है कि ये वैक्सीन कोरोना वायरस के ब्राजील वैरियेंट SARS-CoV-2, B.1.128.2 के खिलाफ प्रभावी है। ये अध्ययन इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी ने किया है।

कोरोना वायरस के ब्राजीलियाई संस्करण में E484K म्यूटेंट है जो अमेरिका के न्यूयॉर्क में पाया गया है। ICMR द्वारा किए गए पिछले अध्ययन से पता चला था कि कोवैक्सीन वायरस के यूके संस्करण, B.1.1.7 और भारतीय डबल म्यूटेंट संस्करण B.1.617 के खिलाफ भी प्रभावी है। ये अध्ययन बताते हैं कि कोवैक्सीन कोरोनोवायरस के कई वैरियेंटस पर समान रुप से प्रभावी है।

ओसियूजन (Ocugen) कंपनी के चेयरपर्सन डॉ. सतीश चंद्रन ने कहा, "हम इस अध्ययन के परिणामों को देखकर खुश हैं। क्योंकि कोवैक्सीन कोरोना वायरस के कई वेरिएंट्स के खिलाफ अपनी प्रभावशीलता को दिखा रही है। जिससे हमारा विश्वास और मजबूत होता है कि यह वैक्सीन संभावित रूप से म्यूटेंट वायरस से संक्रमित होने की संभावना को खत्म करता है।

अदार पूनावाला बोले जुलाई तक रहेगी कोरोना टीकों की भारत में कमी, इसलिए नहीं बढ़ाया था उत्पादन

ओसियूजन अमेरिका में एक बायोफार्मास्युटिकल कंपनी है। जो अमेरिकी बाजार के लिए कोवैक्सीन बना रही है। कंपनी के सह-संस्थापक डॉ. शंकर मुसुनुरी ने कहा, “कोवैक्सीन आज तक किए गए सभी अध्ययनों में मजबूत परिणाम दिखाती है। हम मानते हैं कि यह इस महामारी से लड़ने के लिए हमारे राष्ट्रीय शस्त्रागार में शामिल करने के लिए एक महत्वपूर्ण उपकरण है। कंपनी ने यूएस के FDA [फ़ूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन, यूएसए] इस वैक्सीन से संबधित फ़ाइल सौंपी है और वो वहां इसके आपातकालीन उपयोग के आवेदन की तैयारी कर रही है।”

रुस से भारत आई स्पूतनिक V वैक्सीन की पहली खेप, अभी अप्रुवल के लिए भेजी जाएगी

ताजा खबरें