ममता के मंत्री पार्थ चटर्जी की खास अपिर्ता मुखर्जी के घर से ईडी ने किए 20 करोड़ बरामद, बीजेपी बोली ये तो बस ट्रेलर है

बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के मंत्री पार्थ चटर्जी के एक सहयोगी के घर से ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) ने 20 करोड़ रुपए नगद बरामद किए हैं।

Updated On: Jul 23, 2022 09:56 IST

Dastak

Photo Source- Twitter

बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के मंत्री पार्थ चटर्जी के एक सहयोगी के घर से ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) ने 20 करोड़ रुपए नगद बरामद किए हैं। इस जानकारी के सामने आने के बाद बंगाल भाजपा नेता सुवेंदु अधिकारी ने टीएमसी को निशाने पर लेते हुए कहा "ये तो बस ट्रेलर है, पिक्चर अभी बाकि है"।

शुक्रवार रात को ईडी ने कथित शिक्षक भर्ती घोटाले के सिलसिले में मंत्री पार्थ चटर्जी के करीबी अर्पिता मुखर्जी के घर पर रेड़ मारी थी। जिसमें उसे 20 करोड़ से अधिक रुपए नगद बरामद हुए हैं।इस पर भाजपा नेता सुवेंदु अधिकारी ने ट्वीट कर कहा-"एसोसिएशन द्वारा दोषी - ये एक कानूनी शब्द है जो तब इस्तेमाल किया जाता है जब एक व्यक्ति के जानते हुए उसके माध्यम से कोई अन्य व्यक्ति अपराध करता है। मैं बस बता रहा हूं, ये तो बस ट्रेलर है, पिक्चर अभी बाकी है।

ईडी ने पहले पश्चिम बंगाल स्कूल सेवा आयोग और पश्चिम बंगाल प्राथमिक शिक्षा बोर्ड भर्ती घोटालों से जुड़ी कई जगहों पर छापेमारी की उसके बाद उसके हाथ अर्पिता मुखर्जी तक पहुंचे। ईडी की अर्पिता के घर गहनता से जांच के दौरान 20 करोड़ रुपए नगद हाथों लगे हैं। ये रुपया एसएससी घोटाले से संबधित माना जा रहा है। तस्वीरों में बड़ी संख्यां में अर्पिता के घर से 500 और 2000 के नोट दिखाई दे रहे हैं।

ईडी की टीम कैश काउंटिंग मशीन से नोट गिनने के लिए बैंक अधिकारियों की मदद ले रही है। अर्पिता के घर से 20 से अधिक मोबाइल फोन भी बरामद किए गए हैं, ईडी अभी पता लगाने में जुटी है कि उन्हें किस उपयोग में लिया जाता था। इसी के साथ ईडी ने यहां से एसएससी घोटाले से जुड़े सभी लोगों और विभिन्न परिसरों से संबधित गुप्त दस्तावेज हासिल किए हैं। जिसमें रिकॉर्ड से लेकर, संदिग्ध कंपनियों का विवरण, इलेक्ट्रॉनिक उपकरण, विदेशी मुद्रा और सोना भी बरामद हुआ है।

एजेंसी इस मामले में पश्चिम बंगाल के मंत्री पार्थ चटर्जी से भी पूछताछ में जुटी है। ईडी ने कूचबिहार जिले में शिक्षा राज्य मंत्री परेश अधिकारी के आवास पर भी छापेमारी की है। एसएससी भर्ती घोटाला मामले में दोनों मंत्रियों से सीबीआई घंटों तक पूछताछ कर चुकी है।

ईडी मंत्रियों के साथ-साथ पीके बंदोपाध्याय (पूर्व पार्थ चटर्जी के विशेष कार्य अधिकारी), सुकांत आचार्य (पार्थ चटर्जी के पूर्व निजी सचिव), चंदन मंडल उर्फ ​​रंजन (शिक्षकों की नौकरी बेचने वाला एजेंट) के परिसरों की भी तलाशी ले रही है।

इस बीच, तृणमूल कांग्रेस के प्रवक्ता कुणाल घोष ने कहा है कि, 'छापे में बरामद धन से टीएमसी का कोई संबंध नहीं है। जिनका नाम जांच में सामने आया है, यह उनकी या उनके वकीलों की जिम्मेदारी है कि वे सवालों के जवाब दें। तृणमूल इस घटना को करीब से देख रही है और जांच पूरी होने के बाद वो जवाब देगी।

यूपी के हाथरस में कांवड़ियों को ट्रक ने कुचला, 6 की मौत

एसएससी घोटाला मामला-

कलकत्ता उच्च न्यायालय ने कई रिट याचिकाओं में हाल ही में केंद्रीय जांच ब्यूरो को समूह 'सी' और 'डी' कर्मचारियों, नौवीं-बारहवीं कक्षा के सहायक शिक्षकों और प्राथमिक शिक्षकों के भर्ती घोटाले की जांच करने का निर्देश दिया था।

इन मामलों में, गैर-शिक्षण कर्मचारियों (ग्रुप सी एंड डी), शिक्षण स्टाफ [सहायक शिक्षक (कक्षा IX-XII) और प्राथमिक विद्यालय में शिक्षकों की अवैध नियुक्ति, ईडी धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) के तहत मामलों की जांच कर रहा है।

ईडी ने भगौडे ज्वैलर नीरव मोदी की 253 करोड़ की संपत्ति की कुर्क

ताजा खबरें