चीन विरोध में कर्मचारियों ने जलाई Zomato की T-Shirt, खाना ऑर्डर करने में आ सकती है दिक्कत

लोगों के घरों तक खाना पहुंचाने वाली ऐप आधारित कंपनी जोमैटो(Zomato) है। जिसके कई कर्मचारियों ने कंपनी की टीशर्ट जला दी और नौकरी छोड़ दी।

Updated On: Jun 28, 2020 12:00 IST

Dastak

Photo Source- Social Media

लद्दाख(Ladakh) सीमा पर चीन(China) के रवैया से पूरे देश गुस्से में है। देश के अलग-अलग हिस्सों में लोग चीनी कंपनियों के विरोध में उतर आए है। अब ये विरोध एक पायदान आगे बढ़ चुका है। लोग उन कंपनियों का भी विरोध कर रहे हैं जिनमें चीन की किसी कंपनी का निवेश है। इसका सबसे ताजा उदाहरण लोगों के घरों तक खाना पहुंचाने वाली ऐप आधारित कंपनी जोमैटो(Zomato) है। जिसके कई कर्मचारियों ने कंपनी की टीशर्ट जला दी और नौकरी छोड़ दी। ये वाक्या कोलकाता(Kolkata) में पेश आया जहां जोमैटो में काम कर रहे डिलीवरी ब्वॉयज(Delivery Boys) के एक ग्रुप ने इस कंपनी से सामूहिक इस्तीफा दे दिया ।

'चाइनीज एजेंट जोमैटो भारत छोड़ो'-

जोमैटो में काम कर रहे ये लड़के दक्षिण कोलकाता में बेहला पुलिस स्टेशन के सामने जमा हुए और जोमैटो की टी शर्ट जलाई । हाथों में तिरंगा लिए हुए जोमैटो के इस स्टाफ ने 'चाइनीज एजेंट जोमैटो भारत छोड़ो' के नारे लगाए । साथ ही, इन्होंने लोगों से जोमैटो के जरिये भोजन का ऑर्डर नहीं करने की अपील कि ।

जोमैटो में है अलीबाबा का निवेश-

जोमैटो में चीन की नामी कंपनी अलीबाबा का भारी निवेश है । जिसका कंपनी में काम कर रहे डिलीवरी ब्वॉयज विरोध कर रहे हैं । चीन की कंपनी अलीबाबा से जुड़े एंड फाइनेंशियन ने साल 2018 में जोमैटो में 21 करोड़ डॉलर का भारी निवेश किया था । जिसके चलते जोमैटो की तकरीबन 15 प्रतिशत हिस्सेदारी इस कंपनी के पास है । जोमैटो ने हील ही में एंट फाइनेंशियन से 15 करोड़ डॉलर की राशि फिर से जुटाई है ।

कोविड महामारी के वक्त जोमैटो ने की थी छटनी-

बता दें, मई में जोमैटो ने अपने 520 कर्मचारियों को कोरोना महामारी का हवाला देकर नौकरी से निकाल दिया था । ऐसे में अब अगर कर्मचारियों का गुस्सा कोलकाता से निकलकर बाकि देश में फैलता है और लोग नौकरियां छोड़ते हैं तो कंपनी की मुश्किलें बढ़ सकती है ।

दावा – सबसे पहले स्पेन में मिला था कोरोना वायरस, क्या चीन नहीं है कोविड 19 की जड़?

ताजा खबरें