तेल की कीमतों को लेकर विपक्ष की भूमिका में आए किसान, प्रदर्शन कर सरकार से कर हटाने को कहा

देश में तेल के बढ़ते दामों (Rising Fuel Prices) से परेशान सब हैं लेकिन इन्हें लेकर भी मोर्चा किसानों (Farmers) ने ही खोला है, जिससे कहा जा सकता है की किसान विपक्ष की भूमिका में आ गए हैं।

Updated On: Jul 9, 2021 12:45 IST

Dastak

Photo Source- Social Media

देश में तेल के बढ़ते दामों (Rising Fuel Prices) से परेशान सब हैं लेकिन इन्हें लेकर भी मोर्चा किसानों (Farmers) ने ही खोला है, जिससे कहा जा सकता है की किसान विपक्ष की भूमिका में आ गए हैं। किसानों ने शुक्रवार को बढ़ती तेल कीमतों के विरोध में पंजाब के मोहाली में प्रदर्शन किया। किसानों ने केंद्र सरकार से मांग की कि वो पेट्रोल और डीजल पर लगने वाला कर वापस ले। ये विरोध-प्रदर्शन संयुक्त किसान मोर्चा के बैनर तले किया गया था।

अंग्रेजी अखबार दी ट्रीब्यून की रिपोर्ट के मुताबिक तेल की बढ़ती कीमतों के विरोध में बडी संख्या में किसान सोहाना के गुरुद्वारा सिंह शहीदन के पास ट्रैफिक लाइट प्वाइंट पर जमा हुए। इस दौरान किसानों ने केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की। प्रदर्शनकारियों के अनुसार सरकार को तेल और गैस की कीमतों में घटोती कर बढ़ रही मंहगाई को काबू में करना चाहिए। उन्होंने मोदी सरकार द्वारा पेश किए गए तीन कृषि कानूनों को भी जल्द से जल्द रद्द करने की मांग भी की है।

विरोध प्रदर्शन में आए किसानों की एक सभा में किसानों ने कहा कि अच्छे दिनों के वादे के साथ मोदी सरकार सत्ता में आई थी, लेकिन अब वो लोगों का जीवन दयनीय करने में जुटी है। उन्होंने कहा कि तेल और रसोई गैस की कीमतें हर गुजरते दिन के साथ बढ़ रही हैं और मोदी सरकार "पेट्रोल और डीजल की बिक्री पर भारी कर लगाकर लोगों को लूट रही है"।

जब परिवार का बड़ा सदस्य पक्षपाती हो जाए, तब जन्म लेता है विद्रोह- अजय चौधरी

यहां फेज सात में भी किसानों द्वारा विरोध-प्रदर्शन किया गया। जिसमें किसानों ने गैस सिलेंडर सडक पर रखकर प्रदर्शन किया। किसानों ने आरोप लगाया कि मोदी सरकार कॉरपोरेट घरानों के एजेंट के रूप में काम कर रही है। पास के खरड में भी किसान यूनियनों ने बस स्टैंज पर सरकार के विरोध में रैली निकाली है। भारतीय किसान यूनियन से जुडे सदस्यों का कहना है कि कोरोना महामारी के कारण किसान पहले से ही वित्तीय संकट से गुजर रहे हैं और तेल और गैस की कीमतों में बढ़ोतरी लोगों को पर अतिरिक्त वित्तिय बोझ डालेगा।

ताजा खबरें