किसान आंदोलन केवल स्थगित हुआ है, खत्म नहीं हुआ- गवर्नर सत्यपाल मलिक

राज्यपाल मलिक केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि दिल्ली में अगर किसी जानवर की मौत हो जाए तो शोक संदेश जारी किया जाता है लेकिन किसान आंदोलन के दौरान कितने किसान मारे गए लेकिन सरकार की तरफ से कोई संदेश नहीं दिया है।

Updated On: May 10, 2022 11:39 IST

Admin

Photo Source- Social Media

मेघालय के गवर्नर सत्यपाल मलिक ने एक बार फिर केंद्र सरकार को किसानों, महंगाई और बेरोजगारी के मुद्दे पर आड़े हाथों लिया है। उन्होंने किसानों की मौत पर केंद्र सरकार की चुप्पी और एमएसपी पर कानून न बनाने पर नाराजगी जाहिर की है। देश में बढ़ती मंहगाई और बेरोजगारी के मुद्दे पर भी देश के नेताओं को लताड़ लगाई है। मलिक ने कहा कि बेरोजगारी पर कोई भी नेता बोलने को तैयार नहीं है। उन्होंने कहा सरकार करों को कम कर वस्तुओं की कीमत में कमी ला सकती है।

किसानों की मौत पर केंद्र सरकार ने क्यों साधी चुप्पी-

राज्यपाल मलिक केंद्र की मोदी सरकार से किसानों के मुद्दे पर अबतक भी नाराज नजर आ रहे हैं। उन्होंने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि दिल्ली में अगर किसी जानवर की मौत हो जाए तो शोक संदेश जारी किया जाता है लेकिन किसान आंदोलन के दौरान कितने किसान मारे गए लेकिन सरकार की तरफ से कोई संदेश नहीं दिया है।

मलिक ने कहा कि बाद में प्रधानमंत्री ने किसानों के हित में कुछ कदम जरुर उठाए लेकिन अभी तक फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) दिलाने के लिए कोई कानून अमल में नहीं लाया गया है। उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन केवल स्थगित किया गया है, ये खत्म नहीं हुआ है। उन्होंने कहा ये कभी भी बड़ा रुप ले सकता है।

मंहगाई और बेरोजगारी पर भी बरसे मलिक-

मलिक ने कहा कि भारत सरकार की जनता को राहत पहुंचाने की मंशा हो तो वो टैक्सों में कटौती कर महंगाई को काफी हद तक कम कर सकती है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में भी पैट्रोल हमारे देश जितना मंहगा नहीं है।

उन्होंने मंहगाई पर अपनी चिंता जाहिर करते हुए कहा कि जिस गति से देश में मंहगाई और बेरोजगारी बढ़ रही है वह देश में संकट पैदा कर सकती है, लेकिन कोई भी नेता देश के इन मुद्दों पर बोलने को तैयार नहीं है। मलिक ने कहा कि असल बात तो सरकार के साथ रहते हुए सवाल उठाने की भी है। उन्होंने कहा कि अगर सरकार को लगता है कि वो गलत सवाल उठा रहे हैं तो जिस दिन पीएम उनसे पद छोड़ने को कहेंगे वो उस दिन राज्यपाल का पद छो़ड़ देंगे।

हरियाणा में सोशल मीडिया पत्रकारों को कवरेज करने से मनाही! हो सकती है कार्यवाही

मलिक ने दिए सक्रिय राजनीति में लौटने के संकेत-

सत्यपाल मलिक ने सक्रिय राजनीति में वापस लौटने के भी संकेत दिए हैं, उन्होंने कहा कि वे सेवानिवृत्ति के बाद पश्चिमी उत्तरप्रदेश में उच्च न्यायालय की पीठ स्थापित करने के संघर्ष में अपना योगदान देंगे, साथ ही किसानों के हकों के लिए भी लड़ते रहने की बात कही।

सलमान खान के हमशक्ल अभिनेता को पुलिस ने किया गिरफ्तार, चालान जारी

ताजा खबरें