ओडिशा में खुला 'One Rupee Clinic' कराएं ये चेकअप

ओडिशा (Odisha) के संबलपुर जिले में एक डॉक्टर (Doctor) ने गरीब और वंचित लोगों को उपचार प्रदान करने के लिए 'वन रुपी' क्लिनिक (One Rupee Clinic) खोला है।

Updated On: Feb 14, 2021 12:18 IST

Dastak Web 1

Photo Source: Google

ओडिशा (Odisha) के संबलपुर जिले में एक डॉक्टर (Doctor) ने गरीब और वंचित लोगों को उपचार प्रदान करने के लिए 'वन रुपी' क्लिनिक (One Rupee Clinic) खोला है। वीर सुरेन्द्र साईं इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड रिसर्च (VIMSAR), बुर्ला में औषधि विभाग में एक सहायक प्रोफेसर शंकर रामचंदानी ने बुर्ला शहर में क्लिनिक खोला है। जहाँ मरीजों को इलाज के लिए सिर्फ एक रुपया देना पड़ता है। रामचंदानी ने कहा है कि ड्यूटी घंटो के बाद गरीबों और वंचितों को मुफ्त उपचार प्रदान करना और एक रुपये का शुल्क क्लिनिक उनकी लंबी इच्छा का हिस्सा है। मैं एक वरिष्ठ निवासी के रूप में VIMSAR में शामिल हुआ और वरिष्ठ निवासियों को निजी अभ्यास करने की अनुमति नहीं है। इसलिए मैं 'वन-रुपी' क्लिनिक शुरू नहीं कर सका।

लेकिन मुझे हाल ही में सहायक प्रोफेसर के रूप में पदोन्नत किया गया था और एक सहायक प्रोफेसर के रूप में मुझे अपनी ड्यूटी के घंटों के बाद निजी अभ्यास करने के लिए अनुमति है। और इसलिए मैंने अब किराए के घर में क्लिनिक शुरू किया है। 38 वर्षीय डॉक्टर ने कहा। यह पूछने पर कि वह एक रुपया क्यों चार्ज करते हैं। रामचंदानी ने कहा "मैं गरीबों और वंचित लोगों से एक रुपये लेता हूं क्योंकि मैं नहीं चाहता कि वे महसूस करें कि वे मुफ्त सेवा का लाभ उठा रहे हैं। उन्हें यह भी सोचना चाहिए कि उन्होंने अपने इलाज के लिए कुछ पैसे दिए हैं।

इस समय से इस समय तक खुलता है क्लिनिक-

बुर्ला शहर के कच्चा बाजार क्षेत्र में स्थापित किया गया क्लिनिक सुबह 7 बजे से सुबह 8 बजे तक और शाम को 6 बजे से शाम 7 बजे तक खुला रहता है। 'वन-रुपी' क्लिनिक ने गरीब, निराश्रित, असहाय, बुजुर्ग व्यक्तियों, शारीरिक रूप से अक्षम लोगों और उन लोगों की सेवा करने का अवसर प्रदान किया है, जिनके पास उचित चिकित्सा देखभाल तक पहुँच नहीं है। उन्होंने कहा है कि मैं जनता का डॉक्टर हूं वर्गों का नही ।

रामचंदानी ने कहा है कि सैकड़ों लोग नियमित रूप से VIMSAR की ओपीडी (OPD) में आते हैं, और डॉक्टरों की सलाह लेने के लिए मरीजों की लंबी कतारें लगती है। मैंने बुजुर्गों और विकलांग लोगों को ओपीडी में डॉक्टरों के साथ परामर्श के लिए घंटों इंतजार करते देखा है। अब उन्हें घंटों इंतजार करने और अस्पताल में पीड़ित होने की आवश्यकता नहीं है। वे मेरे क्लिनिक में आ सकते हैं और केवल 1 रुपये में परामर्श प्राप्त कर सकते हैं। रामचंदानी की पत्नी सिखा रामचंदानी एक दंत चिकित्सक हैं वह भी उनकी मदद कर रही हैं। शुक्रवार को क्लिनिक का उद्घाटन किया गया था और पहले दिन 33 मरीज क्लिनिक में आए थे।

Earthquake: राहुल गांधी के लाइव सेशन के दौरान भूकंप का झटका, हिलते-हिलते कही ये बात

रामचंदानी तब सुर्खियों में आए थे जब उन्होंने एक कुष्ठ रोगी को अपनी बाहों में जकड़ लिया था और उसे 2019 में अपने घर में रखा था। उन्होने कहा, "मेरे दिवंगत पिता ब्रह्मानंद रामचंदानी ने मुझे नर्सिंग होम स्थापित करने के लिए कहा था। लेकिन एक नर्सिंग होम खोलने के लिए भारी निवेश की आवश्यकता होती है, और नर्सिंग होम में 1 रुपये में गरीब लोगों को उपचार प्रदान करना संभव नहीं है। इसलिए मैंने इस 'वन-रुपी' क्लिनिक को खोलने का फैसला किया है।

Priyanka Chopra ने बताया- पति Nick Jonas संग क्वारंटाइन टाइम में क्यों नहीं किया वर्कआउट

ताजा खबरें