नहीं मिला ऑक्सीजन बेड, मृतक के परिजनों ने अपोलो अस्पताल के डाक्टरों और नर्सों को पीटा

दिल्ली (Delhi) के सरिता विहार स्थित अपोलो अस्पताल (Apollo Hospital) में मंगलवार काफी हंगामें भरा रहा। यहां एक कोरोना मरीज (Covid Patient) के परिवार वालों पर अस्पताल स्टाफ, डाक्टरों और नर्सों पर हमला करने का आरोप है। इस घटना की वीडियो भी वायरल हो रही हैं।

Updated On: Apr 27, 2021 19:05 IST

Dastak

Photo Source- Viral Video

दिल्ली (Delhi) के सरिता विहार स्थित अपोलो अस्पताल (Apollo Hospital) में मंगलवार काफी हंगामें भरा रहा। यहां एक कोरोना मरीज (Covid Patient) के परिवार वालों पर अस्पताल स्टाफ, डाक्टरों और नर्सों पर हमला करने का आरोप है। बताया जा रहा है कि आईसीयू बेड न मिलने के कारण मरीज की मौत हो जाती है। जिसपर गुस्साए परिवार के सदस्यों ने यह कदम उठाया।

जानकारी के अनुसार 62 साल की महिला को सोमवार रात को अस्पताल में लाया गया था। महिला अस्पताल के आपातकालीन क्षेत्र में आईसीयू बिस्तर मिलने का इंतजार करती रही लेकिन अस्पताल में खाली आईसीयू बेड मौजूद न होने के चलते बेड उपलब्ध ही नहीं हो पाया। मंगलवार सुबह महिला की मौत हो गई।

इस बात से गुस्साए परिजनों ने मंगलवार सुबह नौ बजे के आसपास अस्पताल में नर्सों और डॉक्टरों पर हमला कर दिया। घटना का एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमें लाठी-डंडो से परिवार के सदस्य डाक्टरों पर हमला करते हुए दिखाई दे रहे हैं। इस दौरान अस्पताल की संपत्ति को भी कुछ नुकसान आया है।

एक अन्य वीडियो भी सामने आया है। जिसमें अस्पताल के अंदर भी खून के निशान देखने को मिल रहे हैं। जिससे पता चल रहा है कि मृतक महिला के परिजनों और अस्पताल के स्टाफ के बीच खूनी लड़ाई हुई है।

अंग्रेजी न्यूज चैनल इंडिया टुडे टीवी से बात करते हुए, डीसीपी साउथ ईस्ट दिल्ली ने कहा कि पुलिस को अस्पताल या मरीज के परिवार से इस संबंध में कोई शिकायत नहीं मिली है।

ब्रिटेन से भारत पहुंची पहली मदद की खेप, 100 वेंटिलेटर और 95 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर मिले

इससे पहले दिल्ली हाईकोर्ट कोरोना मामलों में बढ़ती मौतों को देखते हुए पुलिस से अस्पतालों को सुरक्षा मुहैया कराने का आदेश दे चुका है। कोर्ट ने कहा था कि आप नहीं जानते कि जब लोगों के करीबी लोग गुजरेंगे तो वो किस तरह की प्रतिक्रिया देंगे।

मद्रास हाईकोर्ट ने चुनाव आयोग को क्यों लगाई फटकार, क्यों कहा वोटो की गिनती तक रुकवा सकते हैं?

ताजा खबरें