फाइजर ने वैक्सीन के प्री ऑर्डर के लिए भारत सरकार से एडवांस भुगतान की मांग की: रिपोर्ट

अमेरिका की वैक्सीन निर्माता (Vaccine Manufaturer) कंपनी फाइजर (Pfizer) ने भारत सरकार (Indian Government) सहित अन्य देशों की सरकारों से वैक्सीन के प्री ऑर्डर के साथ एडवांस भुगतान की भी मांग की है।

Updated On: May 26, 2021 12:35 IST

Ajay Chaudhary

Photo Source- Pixabay

अमेरिका की वैक्सीन निर्माता (Vaccine Manufaturer) कंपनी फाइजर (Pfizer) ने भारत सरकार (Indian Government) सहित अन्य देशों की सरकारों से वैक्सीन के प्री ऑर्डर के साथ एडवांस भुगतान की भी मांग की है। मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक फाइजर कंपनी के प्रतिनिधियों ने भारतीय अधिकारियों के साथ हुई बैठक में उन्हें एडवांस पेमेंट के भुगतान के लिए कहा है। कंपनी ने बैठक में भारत में वैक्सीन कंपनी को लेकर आ रही कानूनी दिक्कतों के बारे में तो बात की लेकिन प्री ऑडर्र के साथ अग्रिम भुगतान उनका मुख्य मुद्दा रहा।

फाइजर प्रतिनिधियों ये मिल सकते हैं विदेश मंत्री-

अंग्रेजी अखबार द इकोनॉमिक टाइम्स ने ये रिपोर्ट किया है। अमेरिका दौर पर मौजूद भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर के भी फाइजर के प्रतिनिधियों से भारत में वैक्सीन की सप्लाई के मुद्दे पर मिलने की संभावना है।

फाइजर भारत को इन शर्तों पर वैक्सीन तकनीक देने को तैयार-

द इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबित फाइजर ने भारत सरकार से कहा है कि वह वैक्सीन बनाने की अपनी तकनीक भारत में वैक्सीन के उत्पादन के लिए दे देगा, अगर सरकार उन्हें ऐसी व्यवस्था करके देती है तो। व्यवस्था में कोरोना वायरस के वेरिएंटस को संभालने के लिए रिसर्च और संशोधन भी शामिल है।

सीधे केंद्र से बात करेंगी कंपनिया-

अमेरिकी कंपनी फाइजर और मॉडर्न ने यह स्पष्ट किया है कि वे वैक्सीन के संबध में किसी भी मामले में भारत की राज्य सरकारों की अपेक्षा सीधे केंद्र से बात करेंगे। दिल्ली और पंजाब राज्य की सरकारों ने कंपनी से वैक्सीन देने का अनुरोध किया था जिससे इन दोनों कंपनियों ने ही इंकार कर दिया था।

जब विदेश से वैक्सीन मिलनी नहीं थी तो केंद्र ने राज्यों को टेंडर जारी करने की अनुमति क्यों दी? पढें

भारत सरकार वैक्सीन कंपनियों के लगातार संपर्क में-

भारत सरकार के स्वास्थय मंज्ञालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने एक बयान में कहा है कि केंद्र वैक्सीन स्पलाई के लिए इन दोनों कंपनियों के साथ लगातार बातचीत कर रहा है। अग्रवाल के अनुसार चाहे वह फाइजर हो या मॉडर्न हम दोनों ही कंपनियों से लगातार बातचीत कर रहे हैं। इन कंपनियों की ऑर्डर बुक पहले ही भरी हुआ है। अब हमें कितनी वैक्सीन मिल पाएगी ये कंपनियों पर ही निर्भर करता है। उन्होंने कहा कि हम यह भी सुनिश्चित करेंगे कि खुराक राज्य स्तर पर स्पलाई की जाए।

Whatsapp ने भारत सरकार के नए आईटी नियमों के खिलाफ किया कोर्ट का रुख, बताया निजता का हनन

ताजा खबरें