हैदराबाद में फिर बारिश ने बरपाया अपना कहर, 2 की मौत

हैदराबाद में भारी बारिश ने फिर अपना कहर बरपाया है। रातभर हुई हुई भारी बारिश के कारण दो लोगों की मौत हो गई। शहर और आस-पास के इलाकों में दर्जनों आवासीय कॉलोनियों में जलभराव की स्थिति हो गई,

Updated On: Oct 18, 2020 17:07 IST

Dastak Web 1

Photo Source: Google

हैदराबाद में भारी बारिश ने फिर अपना कहर बरपाया है। रातभर हुई हुई भारी बारिश के कारण दो लोगों की मौत हो गई। शहर और आस-पास के इलाकों में दर्जनों आवासीय कॉलोनियों में जलभराव की स्थिति हो गई, जिससे उन लोगों की तकलीफ और बढ़ गई जिन्हें पिछले सप्ताह की भारी बारिश, बाढ़ से अभी उबरना है। 17-18 अक्टूबर की रात हैदराबाद और उसके असपास 19 सेंटीमीटर से अधिक बारिश ने बचाव और राहत कार्यों के लिए एक झटका दिया, जो 13-14 अक्टूबर को मूसलाधार बारिश के बाद शुरू हुए थे।

बीती रात को भारी बारिश के कारण जलभराव

बीती रात को हुए भारी बारिश के कारण जलभराव के बीच वाहनों के पानी में बह जाने जैसे विजुअल सामने आए हैं।प्रभावित लोगों को राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) और ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम (जीएचएमसी) की आपदा मोचन बल ने बाढ़ वाले इलाकों से लोगों को निकालने के लिए नौका का इस्तेमाल किया। उन्होंने हाफिज बाबा नगर में बचाव कार्य शुरू किया।

बॉलीवुड अभिनेत्री तापसी पन्नू छुट्टी के बाद काम पर वापस लौटीं

प्रभावित क्षेत्रों के लोग रातभर सो नहीं पाए। कुछ को छतों पर शरण लेनी पड़ी, क्योंकि उनके घर डूब गए थे। चंद्रयागुत्ता के विधायक और ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एअईएमआईएम) के नेता अकबरुद्दीन ओवैसी के साथ हैदराबाद के पुलिस आयुक्त अंजनी कुमार ने स्थिति का जायजा लेने के लिए रविवार सुबह हाफिज बाबा नगर का दौरा किया।

पुलिस कमिश्नर ने क्या कहा

पुलिस कमिश्नर ने कहा कि निचली कॉलोनियों हाफिज बाबा नगर, फूलबाग, उमर कॉलोनी, इंद्रा नगर, शिवाजी नगर और राजीव नगर में बाढ़ आ गई। अंजनी कुमार ने ट्वीट किया, "कृपया, इवैक्युएशन के काम में पुलिस के साथ सहयोग कीजिए।"

उन्होंने गोलनाका, मूसारामबाग, मालकपेट, मदन्नापेट, लाल दरवाजा, अलीबाद, शमशेरगंज, अल जुबेल कॉलोनी और गाजी-ए-मिलत कॉलोनी में बचाव कार्य का निरीक्षण किया। पिछले सप्ताह हैदराबाद और राज्य के अन्य हिस्सों में आई बाढ़ से 50 लोगों की मौत हो गई। अधिकांश मौतें शहर और इसके बाहरी इलाकों में हुईं।

--आईएएनएस

वीएवी/एसजीके

हाथरस पीड़िता का परिवार बुलगड़ी गांव छोड़कर जाना चाहता है

ताजा खबरें