राकेश टिकैत ने कहा सरकार किसान आंदोलन को दिल्ली से हटाकर हरियाणा ले जाना चाहती है

किसान नेता और भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन को दिल्ली की सीमाओं से हटाकर हरियाणा के जिंद में ले जाना चाहती है।

Updated On: Jun 4, 2021 13:40 IST

Dastak

File Photo (Photo Source: Social Media)

किसान नेता और भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन को दिल्ली की सीमाओं से हटाकर हरियाणा के जिंद में ले जाना चाहती है। टिकैत के अनुसार ये मोदी सरकार की चाल है और किसान किसी भी कीमत पर दिल्ली बॉर्डर नहीं छोड़ेंगे।

जींद में किसानों को संबोधित करते हुए राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार की मंशा है कि किसान आंदोलन दिल्ली बॉडर्रों से हटकर हरियाणा में चला जाए। लेकिन हम किसी भी कीमत पर ऐसा नहीं होने देंगे। किसान दिल्ली में ही डटे रहेंगे।

टिकैत के अनुसार सरकार दुनिया का ध्यान आंदोलनरत किसानों से हटाने के लिए आंदोलन के केंद्र में बदलाव करना चाहती है। साथ ही टिकैत ने ये भी कहा कि हरियाणा में भी विभिन्न स्थानों पर किसान आंदोलन चल रहा है, जिनमें टोल प्लाजा भी शामिल है। यहां भी आंदोलन पहले की तरह ही जारी रहेगा।

टिकैत ने मीडिया को ये बयान देने से पहले किसानों की सभा में कहा था कि जब तक हमारी मांगे पूरी नहीं हो जाती तबतक किसान आंदोलन जारी रहेगा। चाहे इस आंदोलन को उनको कितना ही लंबा लेकर क्यों न जाना पड़े।

टिकैत के अनुसार पुलिस ने किसानों पर कईं मामले दर्ज किए हैं, आंदोलन में ऐसा होता रहा है और हम लाठियां खाने और जेल में जाने से नहीं डरेंगे। टिकैत ने कहा संयुक्त किसान मोर्चा जो आंदोलन की अगुवाई कर रहा है, वो तीन काले कानूनों के खिलाफ अपना शांतिपूर्ण विरोध जारी रखेगा।

टिकैत ने कहा कि किसान संगठन सरकास से बातचीत करने के लिए तैयार हैंं। जब भी केंद्र सरकार चाहे किसानों से बातचीत का सिलसिला फिर से शुरु कर सकती है। टिकैत के अनुसार वे अब चर्चा सिर्फ कृषि कानूनों को खत्म करने की ही करेंगे। जब सरकार बात करना चाहेगी तो संयुक्त किसान मोर्चा भी बात करेगा।

टाइगर श्रॉफ और दिशा पटानी के कोरोना महामरी में बाहर घूमने पर पुलिस ने की एफआईआर दर्ज

आपको बता दें संयुक्त किसान मोर्चा कृषि कानूनों का विरोध कर रहे 40 किसान संगठनों का एक संयुक्त मोर्चा है। इस मोर्चे ने पिछले माह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखा था कि वे बातचीत का बंंद हो चुका सिलसिला फिर से शुरु करें। किसान बीते साल नवंबर से इन कानूनों के खिलाफ विरोध कर रहे हैं।

विराट कोहली और अनुष्का शर्मा की बेटी वामिका की तस्वीर लेने पर फैंस के निशाने पर आए फोटोग्राफरस

ताजा खबरें