Jammu & kashmir के इस युवा ने सेब बेचने की निकाली ये नई तरकीब, किसानों का भी हो रहा फायदा

कहते है कि पढ़ाई लिखाई कभी भी व्यर्थ नही जाती है। एक शिक्षित व्यक्ति जीवन में कभी भी कुछ भी कर सकता है। ऐसा ही एक मामला दक्षिण कश्मीर के शोपियां जिले से सामने आया है।

Updated On: Dec 27, 2020 18:23 IST

Dastak Web 1

Photo Source: Google

कहते है कि पढ़ाई लिखाई कभी भी व्यर्थ नही जाती है। एक शिक्षित व्यक्ति जीवन में कभी भी कुछ भी कर सकता है। ऐसा ही एक मामला दक्षिण कश्मीर के शोपियां जिले से सामने आया है। जहां एक युवा उद्यमी ने वैश्विक मानकों के अनुरूप फल की पैकेजिंग में बहुत आवश्यक सुधार लाकर इंटरनेट पर प्रसिद्ध कश्मीरी सेब बेचना शुरू किया है। शोपियां के पिंजौर गाँव के रहने वाले 30 वर्षीय अदनान अली खान अब एक सप्लाई चेन की स्थापना करके एक स्थानीय नायक के रूप में उभरे हैं। जो किसानों को उनके उत्पाद ऑनलाइन बेचने में मदद करके उनको उचित मूल्य दिलवाना सुनिश्चित करता है।

खान अपने परिवार के चौथी पीढ़ी के किसान है

अली खान अपने परिवार के चौथी पीढ़ी के किसान है। जिन्होने इंजीनियरिंग और एमबीए पूरा किया हुआ है। और अब कश्मीरी उत्पादों के मूल्य निर्धारण, योजना और विपणन" पर अपनी पीएचडी कर रहे हैं। उन्होंने अपना ऑनलाइन उद्यम शुरू किया है। जो ऑनलाइन ऑर्डर प्राप्त करने पर कश्मीरी सेबों को लोगों के दरवाजों पर पहुंचाता है। युवा उद्यमी शायद इंटरनेट पर खुदरा पैक में सेब बेचने वाला पहला कश्मीरी है। अली खान ने सितंबर में अपनी शुरुआत की थी जब उन्होंने अपने परिवार के स्वामित्व वाले सेब के बागों से उत्पादों को बेचा था। और अब वह ऑनलाइन ऑर्डर प्राप्त कर रहे हैं। ये युवा सेब की पंद्रह किस्मों को बेच रहा है। और एक से छह सेब वाले पैक में ग्राहकों को बेच रहा है।

मैं अपने पिता को रणनीतिक सहायता प्रदान कर रहा हूं

उन्होंने कहा कि यदि सरकार युवा उद्यमियों को सुविधाएं प्रदान करे तो वे कई क्षेत्रों में उत्कृष्टता प्राप्त कर सकते हैं। और इससे अन्य शिक्षित युवाओं को भी मदद मिलेगी। खान ने एएनआई को बताया, मैं अपने पिता को रणनीतिक सहायता प्रदान कर रहा हूं। मेरा विचार गुणवत्ता पैकेजिंग के साथ सेब बेचने का है। हमारे पास एक एकल सेब पैक या अधिक सेब के साथ एक बड़ा पैक है। मैं यह चाहता हूं कि इस सेब की पैकेजिंग अवधारणा का उपयोग सभी बागवानों द्वारा किया जाए। कश्मीर उत्पादकों को पैकेजिंग की कला को खुद विकसित करना चाहिए। और इसे विश्व स्तर पर विपणन करना चाहिए।

यह विचार 10 साल पहले मेरे दिमाग में आया था

वह अपनी उपज के मूल्य की लागत कम करने के लिए गुजरात से पर्यावरण के अनुकूल पैकेजिंग मैटेरियल खरीदता है।यह विचार 10 साल पहले मेरे दिमाग में आया था। लेकिन तब मैं इसे कुछ स्थिति के कारण लागू नहीं कर पाया था। इस साल मैंने अपने एक मित्र दानिश की मदद से इसे लेने का फैसला किया। हम गुजरात से पैकेजिंग उपकरण लाए। हमने एक परीक्षण नमूना लिया और कुछ नमूने बागवानी विभाग को भेजे। और बाद में हमने इसे ऑनलाइन और ऑफलाइन मोड में लॉन्च किया। मुझे इस पहल के लिए उपराज्यपाल से पुरस्कार भी मिल चुका है।

Vivo X60 Pro 29 दिसंबर को हो सकता है लॉन्च, मिलेंगे ये कमाल के फीचर्स

अली खान के पिता शोकत अली खान ने अपने बेटे की सफलता पर खुशी जताते हुए और कहा हम करीब 40-50 वर्षों से फल व्यवसाय में हैं। हम इसे अपने पारंपरिक तरीके से कर रहे हैं। मेरे बेटे ने अपना MBA पूरा किया और उसके बाद वह हमारे व्यवसाय में शामिल हो गया। उन्होंने नई पैकेजिंग प्रणाली लाई और हम लाभ कमा रहे हैं।

भारत के संरक्षित स्मारकों में शूटिंग करना 25 दिसंबर से 15 अगस्त 2021 तक हुआ फ्री

ताजा खबरें