Uttarakhand Glacier Burst: 58 शव बरामद, 31 की हो पाई है पहचान

जैसा कि सभी को पता है बीते दिनों उत्तराखंड (uttrakhand) के चमोली जिले (Chamoli District) में कुदरत ने अपना कहर बरपाया था। नीती घाटी में रैणी गांव के शीर्ष भाग में ऋषिगंगा के मुहाने पर ग्लेशियर का एक हिस्सा टूटकर ऋषिगंगा में गिर गया था।

Updated On: Feb 17, 2021 11:50 IST

Dastak Web 1

Photo Source- Twitter

जैसा कि सभी को पता है बीते दिनों उत्तराखंड (uttrakhand) के चमोली जिले (Chamoli District) में कुदरत ने अपना कहर बरपाया था। नीती घाटी में रैणी गांव के शीर्ष भाग में ऋषिगंगा के मुहाने पर ग्लेशियर का एक हिस्सा टूटकर ऋषिगंगा में गिर गया था। जिससे नदी में भीषण बाढ़ आ थी और भारी तबाही मची थी। जिसके बाद से फसे लोगों की खोजबीन जारी है। अब अधिकारियों ने कहा है कि उत्तराखंड ग्लेशियर के फटने के बाद से अब तक 58 शव बरामद किए जा चुके हैं, लेकिन उनमें से केवल 31 की पहचान हो पाई है। पुलिस उपमहानिरीक्षक (कानून व्यवस्था) नीलेश आनंद भारने ने कहा है कि 58 शवों में से 11 तपोवन में एनटीपीसी की जल विद्युत परियोजना में 1.7 किमी लंबी सुरंग से बरामद किए गए हैं।

अभी भी लगभग 35 श्रमिकों के वहां फंसे होने की आशंका है। उन्होंने कहा है कि 58 शवों में से 11 तपोवन सुरंग से बरामद हुए हैं, 48 चमोली जिले से, 7 रुद्रप्रयाग से, 2 पौड़ी गढ़वाल से और 1 टिहरी गढ़वाल से बरामद किए गए हैं। भारने ने कहा है कि मृतकों की पहचान का पता लगाने के लिए हमने उनके परिवार के सदस्यों के साथ मिलान करने के लिए डीएनए नमूने एकत्र किए हैं। हमने 55 शवों और 20 शरीर के अंगों का भी अंतिम संस्कार किया है।

पुडुचेरी उपराज्यपाल पद से हटाए जाने पर खफा हैं किरण बेदी? जानें उन्होंने क्या कहा

इस बीच, अधिकारियों और विशेषज्ञों की एक चार सदस्यीय टीम आज ऋषिगंगा परियोजना के पास रेनी गांव से लगभग आठ किमी ऊपर ऋषिगंगा जलग्रहण क्षेत्र में बनी झील का जमीनी सर्वेक्षण करेगी।टीम में एसडीआरएफ के डीआईजी रिद्धिम अग्रवाल, उत्तराखंड अंतरिक्ष अनुप्रयोग केंद्र के निदेशक एमपीएस बिष्ट, प्रख्यात ग्लेशियोलॉजिस्ट डीसी डोभाल और नेहरू इंस्टीट्यूट ऑफ माउंटेनियरिंग के प्रशिक्षक शामिल हैं।

Petrol के दाम पहुंचे 100 रुपये के पार, जानें क्यों बढ़ रही कीमतें

ताजा खबरें