विधानसभा चुनाव का महा दंगल आज, असम-बंगाल समेत पांच राज्यों की 475 सीटों पर मतदान

मंगलवार छह अप्रैल को पांच राज्योंं के विधानसभा चुनाव का महा दंगल हो रहा है। आज केरल की 140 सीटों, तमिलनाडु की सभी 234 सीटों के साथ-साथ असम की 40 सीटों पर तीसरे और आखरी चरण का मतदान हो रहा है।

Updated On: Apr 6, 2021 10:18 IST

Dastak

Photo Source- Social Media

अदिति गुप्ता

मंगलवार छह अप्रैल को पांच राज्योंं के विधानसभा चुनाव का महा दंगल हो रहा है। आज केरल की 140 सीटों, तमिलनाडु की सभी 234 सीटों के साथ-साथ असम की 40 सीटों पर तीसरे और आखरी चरण का मतदान हो रहा है।आज ही के दिन केंद्र शासित प्रदेश पुडुचेरी की सभी 30 सीट के लिए एक ही चरण में और पश्चिम बंगाल की 31 सीटों के लिए भी मतदान कराया जा रहा है। आज के दिन मल्लपुरम और कन्याकुमारी की लोकसभा सीट पर भी मतदान कराया जा रहा है। पश्चिम बंगाल और तमिलनाडु की राजनीति में इस वक्त सियासी उठापटक अपने चरम पर है तो असम में यह आखरी चरण का मतदान है।

तमिलनाडु की 234 सीटों पर मतदान-

तमिलनाडु की 234 सीटों पर मतदान के लिए रविवार शाम सात बजे चुनावी प्रचार-प्रसार थम गया। इस बार पूरे देश की नजर तमिलनाडु के चुनाव पर टिकी हैं। क्या एआईएडीएमके लगातार तीसरी बार हैट्रिक लगा पाएगी या फिर एक शतक बाद डीएमके की घर वापसी होगी। तमिलनाडु में 6.28 करोड़ मतदाता हैं और लगभग 3,998 उम्मीदवार मैदान में आर या पार की लड़ाई में है। 3,998 चहरों में से सबसे नामी चेहरों में से मुख्यमंत्री पलानिस्वामी, डीएमके के अध्यक्ष एम के स्टालिन, उपमुख्यमंत्री ओ पनीरसेलवम, AMMK संस्थापक टीटीवी दिनाकरण, अभिनेता एंव मक्काल निधि मध्यम, नाम तमीझार काच्ची के नेता सीमान, MNM के संस्थापक कमल हसन और बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष एल मुर्गन शामिल है।

पश्चिम बंगाल में तीसरे चरण की वोटिंग-

पश्चिम बंगाल में तीसरे चरण के मतदान के लिए रविवार को चुनावी प्रचार-प्रसार थम गया। इस चरण में सुंदरबन क्षेत्र, डायमंड हार्वर, ग्रामीण हावड़ा और दक्षिण 24 परगना में बरुईपुर बेल्ट और हुगली जिले के कुछ हिस्सों में चुनाव होंगे। यहां की अधिकांश सीटों में तृणमूल का सिक्का चलता है। यहां पर कुल 78 लाख 52 हजार 425 मतदाता हैं और यहां 205 उम्मीदवार अपनी किस्मत इस चुनावी रण में आजमा रहे हैं।

इन्हीं 71 सीटों में से दक्षिण 24 परगना में 16 सीटें बीते साल आए चक्रवात तूफान अम्फान में सबसे ज्यादा प्रभावित हुई थी। तीसरे चरण के चुनाव के लिए केंद्रिय बलों की कम से कम 618 कंपनियों को तैनात किया जाएगा। बंगाल के सभी पोलिंग बूथों को संवेदनशील माना जा रहा है। बंगाल में विधानसभा चुनाव आठ चरणों में संपन्न कराए जाएंगे। पहले और दूसरे चरण की वोटिंग 27 मार्च औरर एक अप्रैल को हुई थी।

केरल की 140 सीटों पर मतदान-

साल 1980 के बाद से ही राज्य में सीपीआईएम के नेतृत्व वाले एलडीएफ और कांग्रेस की अगुवाई वाले यूडीएफ सरकार बनाते रहे लेकिन जीत एक बार भी नहीं मिली। पिछले चुनाव में लेफ्ट को 91 सीटें और यूडीएफ को 47 सीटें मिली थी। अब देखना यह होगा कि क्या यूडीएफ, एलडीएफ को हरा पाएगी या फिर सत्ता की डोर पर पिनरई विजयन के हाथ में जाएगी। केरल में 27 लाख मतदाता है यहां बीजेपी भी अपनी सियासी पहचान बनाने के लिए मशक्कत कर रही है।

फेसबुक के 533 मिलियन यूजरों का निजी डाटा खुले में उपलब्ध, कंपनी ने साधी चुप्पी

पुडुचेरी की 30 सीटों पर मतदान-

केंद्र शासित प्रदेश पुडुचेरी में इस वक्त राष्ट्रपति शासन लगा हुआ है। चुनाव से पहले ही वी नारायण स्वामी के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार विश्वास प्रस्ताव हारने के बाद गिर गई थी। राज्य में 10,04,1997 मतदाता है इस बार प्रदेश में एनडीए और यूपीए के बीच दो टूक मुकाबला दिखाई दे रहा है। इन सभी राज्यों के नतीजे 2 मई को घोषित किए जाएंगे।

ताजा खबरें