मद्रास हाईकोर्ट ने चुनाव आयोग को क्यों लगाई फटकार, क्यों कहा वोटो की गिनती तक रुकवा सकते हैं?

मद्रास हाईकोर्ट (Madras High Court) ने भारत के चुनाव आयोग (Election Commission) को कड़ी फटकार लगाई है। उसके अनुसार क्यों नहींं कोरोना की दूसरी लहर के लिए चुनाव आयोग को जिम्मेदार माना जाए और उसके विरुद्ध हत्या का मामला दर्ज किया जाए।

Updated On: Apr 27, 2021 09:54 IST

Dastak

Photo Source- Google

मद्रास हाईकोर्ट (Madras High Court) ने भारत के चुनाव आयोग (Election Commission) को कड़ी फटकार लगाई है। उसके अनुसार क्यों नहींं कोरोना की दूसरी लहर के लिए चुनाव आयोग को जिम्मेदार माना जाए और उसके विरुद्ध हत्या का मामला दर्ज किया जाए। कोर्ट के अनुसार कोरोना की दूसरी लहर के बीच पांच राज्यों में चुनाव आयोग ने चुनाव करवाए और इस दौरान रैलियों में भारी भीड़ मौजूद रही। कोर्ट ने ये भी कहा है कि वो वोटों की गिनती भी रुकवा सकते हैं अगर चुनाव आयोग कोई ब्लू-प्रिंट नहीं पेश करेगा तो।

हालांकि अभी तक इसपर चुनाव आयोग की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई है। माना यही जा रहा है कि आयोग आदेश को देखने के बाद ही प्रतिक्रिया देगा। मद्रास उच्च न्यायालय ने चुनाव आयोग को कहा, "आपकी संस्था COVID-19 की दूसरी लहर के लिए अकेले ही जिम्मेदार है। आपके अधिकारियों पर हत्या के आरोपों के तहत मुकदमा दर्ज किया जाना चाहिए।"

हाईकोर्ट ने कहा कि चुनावों में कोरोना नियमों जैसे मास्क, सैनेटाईजर और प्रचार के दौरान भी गडबडी की गई है जिससे अदालत के आदेश की अवहेलना की गई है। मुख्य न्यायाधीश संजीब बनर्जी ने सवाल किया कि जब चुनावी सभाएं आयोजित होती हैं उस वक्त क्या आप दूसरे ग्रह पर होते हैं।

हाईकोर्ट ने 2 मई को मत गिनती के दिन कोरोना नियमों को लागू करने को कहा है। ऐसा न होने पर वो वोटों की गिनती भी रुकवा सकते हैं। अदालत के अनुसार लोगों का स्वस्थ रहना सबसे जरुरी है। ये हमें सैंवेधानिक संस्थाओं को याद दिलाना पड़ रहा है। नगरिक जीवित रहेगा तो ही उन अधिकारों का आनंद ले सकेगा जो उसे एक लोकतंत्र प्रदान करता है।

कर्नाटक में लगा लॉकडाउन, जानें कर्फ्यू से किसे छूट होगी और किसे नहीं

हाईकोर्ट तमिलनाडु के परिवहन मंत्री एमआर विजयबास्कर की एक याचिका पर सुनवाई कर रहा था जिसमें वो अपने निर्वाचन क्षेत्र करूर के काउंटिंग हॉल में कोरोना नियमों का पालन करने की मांग कर रहे थे।

ताजा खबरें