अंतर्जातीय विवाह : जाति व्यवस्था को समाप्त करने के लिए सबसे अच्छी पहल

ब्राह्मण जब सामाजिक रूप से ऊपर की श्रेणी मे आए तो खुद को ऊपर रखने के लिए उन्होने अन्य वर्गों से नाता तोड़कर अलग होने का प्रयास किया और इसके लिए सजातीय विवाह एक उत्तम माध्यम था।

Updated On: Jul 17, 2020 18:27 IST

Dastak

Photo Source- Pixabay

श्रुति जयराज सिंह

हिन्दू धर्म की सजातीय विवाह प्रणाली जाति-व्यवस्था का सर्वप्रमुख कारण है। समाज में कुछ स्वाभाविक प्रक्रियाएँ होती रहती हैं। जो लोग उच्च स्थिति में चले जाते हैं वो अपनी उच्चता बनाए रखने की पूरी कोशिश करते हैं। वही निम्न स्थिति वाले लोग उच्चों के क्रिया-कलापों को अपनाकर खुद को ऊपर उठाने का प्रयास करते हैं। कुछ ऐसा ही भारत के हिन्दू धर्म मे हुआ क्योंकि जब भी कोई समुदाय स्वार्थ से प्रेरित हो जाता है तो उसमें असमाजिकता की भावना स्वतः उत्पन्न हो जाती है। ब्राह्मण जब सामाजिक रूप से ऊपर की श्रेणी मे आए तो खुद को ऊपर रखने के लिए उन्होने अन्य वर्गों से नाता तोड़कर अलग होने का प्रयास किया और इसके लिए सजातीय विवाह एक उत्तम माध्यम था।

ब्राह्मणों का मुख्य उद्देश्य यह था कि ब्राह्मणों के विरुद्ध अपने स्वार्थ की रक्षा करे और इसके लिए वो अन्य समुदाय से अपना संवाद और संपर्क कम करने लगे। यह परंपरा अन्य जातियों ने भी अपना ली और इस तरह से हिन्दू धर्म विभिन्न जातियों का संग्रह मात्र नहीं रह गया बल्कि वह शत्रुओं का समुदाय बन गया। हर विरोधी वर्ग स्वयं अपने लिए तथा अपने स्वार्थपूर्ण उद्देश्य की पूर्ति के लिए ही जीवित रहना चाहता है। आगे चलकर तो स्मृतियों के माध्यम से अंतर्जातीय विवाह को पूरी तरह से निषिद्ध कर दिया गया। अंतर्जातीय विवाह से जन्मे शिशुओं को शूद्रों की श्रेणी मे रखा गया। कई स्थितियों मे तो उन्हे चांडाल कहा गया जो अंत्यज माने गए यानि समाज से बहिष्कृत एवं अस्पृश्य। विवाहों के प्रकार निर्धारित कर दिये गए तथा उसमे भी क्रमिकता आ गयी एवं गंधर्व विवाह को एक निम्न स्थिति दी गयी जिसमे प्रेम का प्रदर्शन तथा स्वतन्त्रता की अभिव्यक्ति सबसे ज्यादा होती है। हर देश मे विधि के निर्माता होते हैं जो इस तरह के विधियों का निर्माण करते हैं ताकि आपातकाल मे समाज को सही दिशा दी जा सके।

भारत में मनु को इसी तरह का विधि-निर्माता माना गया और यह भारत का दुर्भाग्य है क्योंकि उनके विधानों ने एक वर्ण को इतने रसातल मे पहुंचा दिया कि उनकी स्थिति पशुवत हो गयी और उनको प्रताड़ित करने के लिए एक उच्च वर्ण को स्थापित कर दिया। हिन्दू-धर्मावलम्बियों की अपने पवित्र पुस्तकों मे अतिविश्वास ने अभी तक जाति-प्रथा को जीवित रखा है। ऐसा नहीं है कि पुस्तकों की हर बात गलत है लेकिन जब तक मानव पुस्तकों से आजाद होकर खुद विचार नहीं करेगा तब तक समस्या बनी ही रहेगी। वैज्ञानिक एवं मानवीय तरीके से सोचा जाये तो किसी भी आधार पर जन्म आधारित वर्ण-व्यवस्था एवं अस्पृश्यता को सही नहीं ठहराया जा सकता। भारत मे यह बात बिलकुल गले से नहीं उतरती कि एक पढ़ा-लिखा व्यक्ति भी, जो कि सोच समझ सकता है कई बार जाति-व्यवस्था को लेकर अत्यंत आग्रही होता है। इसके पीछे उसका अपने धर्म मे अंधविश्वास ही मुख्य कारक है।

बिहार और असम में बाढ़ से हाहाकार, नेपाल बना तबाही का बड़ा कारण

जाति-प्रथा को समाप्त करने के लिए सबसे पहले अंतर्जातीय विवाह को बढ़ावा देना आवश्यक है। इससे विभिन्न विरोधी गुटों के बीच शत्रुता की भावना मे स्वतः ही कमी आने लगेगी क्योंकि व्यक्ति अपने बाद सबसे पहले परिवार को महत्ता देता है और कई बार तो खुद से पहले भी। यह मानवीय प्रवृत्ति है की वह खून के रिश्तों को सबसे ज्यादा अहमियत देता है और अंतर्जातीय विवाह से रिश्ते की भावना पैदा होगी। जब तक सजातीयता के विचार को सर्वोच्च स्थान नहीं दिया जाता तब तक जाति-व्यवस्था द्वारा उत्पन्न की गयी पृथकता और पर-अपमान की भावना समाप्त नहीं होगी। हिंदुओं मे विवाह की यह प्रथा सामाजिक जीवन मे निश्चित रूप से महान शक्ति का एक कारक सिद्ध होगा। जैसा कि कारणों मे हमने देखा कि सजातीय विवाह ने अलग-अलग कुनबों का निर्माण कर दिया है और इसका पालन भी काफी कठोरता से होता है, तो इसे तोड़ना कोई सरल कार्य नहीं होगा। अंतर्जातीय विवाह को सफल बनाना एक टेढ़ी खीर होगी क्योंकि यह सीधे हिंदुओं की धार्मिक विश्वासों से टक्कर लेगा।

हमारी जमीन का एक इंच भी दुनिया की कोई शक्ती नहीं ले सकती- राजनाथ सिंह

आधुनिक होते समाज मे हम कभी-कभी उत्साही युवाओं द्वारा अंतर्जातीय विवाह को अपनाते हुए देखते हैं लेकिन अधिकांश मामलों मे आगे चलकर उन्हे जबर्दस्त कठिनाई का सामना करना पड़ता है। कई बार उन्हे परिवार से निष्काषित कर दिया जाता है और समाज तो उन्हे एक अपराधी की नज़रों से देखने लगता है। आए दिन हमे अपने आस-पास ऐसे उदाहरण मिल जाते हैं जिसमे प्रेमी-प्रेमिकाओं की हत्या भी कर दी जाती है। यह भारतीय हिन्दू समाज के लिए एक अभिशाप के ही समान है कि इन रूढ़िवादी परम्पराओं को प्राचीन पुस्तकों के माध्यम से एक आधार भी मिल जाता है। अगर विचार किया जाए तो हम यह भी देख पाएंगे कि अधिसंख्य हिन्दू रोटी-बेटी के संबंध को जिन आस्थाओं के बुनियाद पर सही मानते हैं, वो आस्थाएँ भी हिंदुओं के अन्य धर्म सिद्धान्त के प्रतिकूल हैं। अब वक्त आ गया है कि चर्चाओं के साथ-साथ इसे व्यावहारिकता के धरातल पर उतारा जाये तभी इस अभिशाप से मुक्ति मिल सकती है जिससे भारत सदियों से पीड़ित है।

इस देश में लॉकडाउन न मानने वालों के किय जा रहे मर्डर, 8 लोगों की ली जान

ताजा खबरें