असम में राहुल गांधी बने केजरीवाल जानिए कैसे......

कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने भी असम विधानसभा चुनाव (Assam Assembly Election) के लिए पार्टी का चुनावी घोषणा पत्र में सीएए कानून रद्द करने का वादा किया है, ठीक उसी तरह जैसे दिल्ली में अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने किया था।

Updated On: Mar 21, 2021 11:58 IST

Dastak

Photo Source: Twitter (File Photo)

नाजिश खान

जिस तरह दिल्ली (Delhi) में 2020 के विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने चुनावी घोषणा पत्र में सीएए कानून (CAA Law) रद्द करने और 200 यूनिट बिजली मुफ्त देने का वादा किया था, ठीक उसी प्रकार कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने भी असम विधानसभा चुनाव (Assam Assembly Election) के लिए पार्टी का चुनावी घोषणा पत्र में सीएए कानून रद्द करने का वादा किया है, इसके अलावा बिजली की 200 यूनिट मुफ्त और गृहिणियों को हर महीने ₹2000 देने का वायदा भी किया है। अगर चुनाव जीत जाते हैं तो देखना दिलचस्प होगा कि वह अपने वादे पर कितने खरे उतरते हैं।

इसके अलावा राहुल गांधी ने चुनावी घोषणा पत्र जारी करते हुए कहा है कि कांग्रेस पार्टी असम के आइडिया की रक्षा करेगी, उन्होंने कहा कि पार्टी का यह दस्तावेज जनता का वास्तविक घोषणा पत्र है। इसमें असम की जनता की आकांक्षाओं को शामिल किया गया है, घोषणापत्र में 5 लाख सरकारी नौकरी देने और चाय बागानों में काम करने वाले कामगारों की न्यूनतम पगार ₹165 से बढ़ाकर ₹365 करने तक की घोषणा की गई है।

किसान आंदोलन ने पाटी यमुना-पार की दूरी

ताजा खबरें