अमेरिका में विदेशी छात्रों की वीजा वापसी, हमने एजुकेशन में आत्मनिर्भर बनने के लिए क्या किया?

अब हमने अपने यहां कभी हार्वर्ड बनाने की नहीं सोची, हमने अपने एजुकेशन सिस्टम को प्राइवेट हाथों का खिलौना बनने के लिए छोड़ दिया। अब अमेरिका ने कह दिया है कि ऑनलाइन क्लास वाले छात्र अपने देश वापस जाएं।

Updated On: Jul 7, 2020 13:47 IST

Dastak

Dastak Photo

अजय चौधरी

अमेरिका में कोरोना वायरस के कारण क्लास ऑनलाइन हो गई है। अब सरकार ने कह दिया ऑनलाइन क्लास लेने वाले विदेशी छात्रों का वीजा वापस लिया जाएगा, वे वापस अपने देश जाएं।

हार्वर्ड जैसी यूनिवर्सिटी में बहुत सारे छात्र भारतीय हैं। 2019 के डाटा के अनुसार दो लाख से अधिक भारतीय छात्र अमेरिका में थे। जो 2018 की तुलना में तीन प्रतिशत अधिक थे।

अब हमने अपने यहां कभी हार्वर्ड बनाने की नहीं सोची, हमने अपने एजुकेशन सिस्टम को प्राइवेट हाथों का खिलौना बनने के लिए छोड़ दिया। जहां मंंहगी फीस और बडी इमारत तो होती है लेकिन अच्छा एजुकेशन हो इसकी कोई गारंटी नहीं।

हमने अपने सरकारी संस्थानों को भी खत्म करने में कोई कसर नहीं छोडी। बहुत सी जगह तो परीक्षाएं ही नहीं हो पाती। बडी यूनिवर्सिटियों में अपनी पंसद के आदमी बैठाने के चक्कर में हमने उन संस्थानों की स्वायत्ता और गरीमा ही उनसे छीन ली।

जिसका ब्योंत होता था, वो विदेश पढ़ने चला जाता था, लेकिन अब कोरोना वायरस के बाद आई इस खबर ने ब्योंत वालों के सामने का रास्ता भी बंद कर दिया है।

Kanpur Encounter: गैंगस्टर विकास दुबे की तलाश में जुटी पुलिस को अबतक क्या सुराग हाथ लगे?

आज अमेरिका भगा रहा है, कल अन्य देश और फिर दिल्ली और अन्य राज्य भगाएंगे। केजरीवाल तो अस्पतालों को दिल्ली वालों के लिए रिजर्व करने की बात करते रहते हैं। ममता भी कहती हैं बंगाल दरवाजे बंद करेगा, बाहर से वायरस आ रहा है। ऐसे में छात्रों को अपने राज्य में रहकर पढ़ने के लिए मजबूर किया जा सकता है। फिर ऐसी स्थिती में क्या होगा? क्या हम तैयार हैं?

प्रधानमंत्री ने लोकलाईज होने को कहा है, आत्मनिर्भर भारत का सपना देखा है। माल बनाने में भी और विदेशी माल का बहिष्कार करने का भी। लेकिन हमारा टैलेंट जो बाहर जाता था पढ़ने और नौकरी करने उसको इस देश में थामने के बेहतर शिक्षा और नौकरी के क्या इंतजाम किए गए हैं?

नेताओं ने तो बस अच्छे बडे संस्थानों में इनवेस्ट किया है, ताकि वहां से पैसा निकल कर आ सके। वो संस्थान उनके नाम पर मनमानी करते हैं और लोगों के हितों को कुचल देते हैं। लॉकडाउन में स्कूल क्या कर रहे हैं, इसका अंदाजा उसी से लगा लीजिए।

Sushant Singh Rajput Death: संजय लीला भंसाली से पूछताछ के बाद कितनी सुलझ पाई आत्महत्या की गुत्थी?

ताजा खबरें