Youtube-Tiktok की लड़ाई Lockdown के Side-Effects हैं

Youtube और Tiktok की लडाई केवल Lockdown के Side-effects हैं। घर में ज्यादा दिन साथ रहने पर अच्छे खासे परिवार में भी लडाई होने लगती है। तो ये तो दो ऑनलाईन अलग-अलग परिवार हैं।

Updated On: May 19, 2020 19:42 IST

Ajay Chaudhary

Photo Source- Pixabay

Youtube और Tiktok की लडाई केवल Lockdown के Side-effects हैं। घर में ज्यादा दिन साथ रहने पर अच्छे खासे परिवार में भी लडाई होने लगती है। तो ये तो दो ऑनलाईन अलग-अलग परिवार हैं। लॉकडाउन में टिकटॉक के यूजर बढ़े तो उसके क्रिएटर सर पर चढ़कर नाचने लगे हैं और यूट्यूब क्रिएटर्स से ऑनलाईन जंग छिड़ गई है।

लेकिन यूट्यूब और टिकटॉक इन दोनों का असल में कोई मुकाबला है ही नहीं। यूट्यूब क्रिएटर को एक सामान्य टिकटॉक क्रिएटर के मुबाकले 90 प्रतिशत अधिक मेहनत करनी होती है। ये मैं मानता हूं। तब जाकर उसे कुछ कामयाबी मिलती है।

यूट्यूब पर Watch Time से लेकर Average View Duration देखी जाती है। जिसके आधार पर वीडियो Suggest किया जाता है। नए खिलाडियों को यूट्यूब पर कामयाब होने में महीनों और सालों लग जाते हैं। इसलिए कम मेहनत करने वाले वो Platform छोड़कर कुछ ही महीनों में भाग खड़े होते हैं।

लेकिन फेसबुक और टिकटॉक जैसी जगह ऐसा नहीं होता। फेसबुक पर वायरल कटेंट डालने से बडी जल्दी वो फैलता है। शेयर बटन उसमें अहम भूमिका निभाता है। टिकटॉक पर भी दूसरों के गानों पर लिप्सिंग कर क्रिएटर जल्दी वायरल हो जाते हैं और वीडियो होती भी काफी छोटी हैं तो यूट्यूब का इससे मुकाबला किया नहीं जा सकता। साथ में copyright और community guidelines का भी बड़ा पंगा है।

टिकटॉक स्टार फैजल सिद्दीकी पर भड़कीं सोना मोहापात्रा, सलमान खान को भी लपेटे में लिया   

इसलिए इन दोनों प्लेटफार्म को एक नजर से तौलना गलत है। गंदगी उछाल मारती है एक बार लेकिन फिर बैठ जाती है। ये कमेंट्स उनके लिए नहीं है जो गरीब लोग टिकटॉक पर वीडियो बनाते हैं या मेरे कुछ साथी जो टाईमपास कर रहे हैं। उनके लिए हैं जो बडे टिकटॉकर हैं और आजकल ऑनलाईन जंग लड रहे हैं।

Youtube VS TikTok: आपस में भिड़े यूजर्स, टिकटॉक को चुकानी पड़ी ये बड़ी कीमत

ताजा खबरें