गुडगांव होटल में सचिन पायलट खेमे के विधायक, राजस्थान सरकार पर गहराया संकट

राजस्थान की गहलोत सरकार का संकट अब गहराता हुआ नजर आ रहा है। अब गुडगांव के मानेसर में आईटीसी ग्रांड होटल में कांग्रेस के विधायक एकत्रित होना शुरु हो गए हैं। बताया जा रहा है कि सचिन पायलट खेमा नाराज है।

Updated On: Jul 12, 2020 10:09 IST

Dastak

सचिन पायलट की फाईल फोटो (Photo Source- Twitter)

राजस्थान की गहलोत सरकार का संकट अब गहराता हुआ नजर आ रहा है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सिर्फ प्रेस वार्ता कर भाजपा पर सरकार गिराने की कोशिश का आरोप नहीं लगा रहे बल्कि अब गुडगांव के मानेसर में आईटीसी ग्रांड होटल में कांग्रेस के विधायक एकत्रित होना शुरु हो गए हैं। मीडिया रिपोर्टस की माने तो गुडगांव के होटल में फिलहाल 12 विधायक हैं, जिनमें 10 कांग्रेस के और दो निर्दलिय हैं। कुछ रिपोर्टों का कहना है कि होटल में 24 विधायक हैं। सूत्रों की मानें तो ये सभी विधायक सचिन पायलट खेमे के हैं जिन्हें मानेसर के होटल में लाया गया है।

सचिन पायलट खेमा भाजपा में मिल सकता है-

चर्चाओं के अनुसार होटल में ठहरे विधायक दिल्ली में पहले कांग्रेस हाईकमान से मुलाकात करेंगे, अगर वहां बात न बनी तो इस बात की संभावना जताई जा रही है कि सचिन पायलट खेमा भाजपा से डील कर सकता है। मध्यप्रदेश में जिस तरह ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस से टूटकर भाजपा में गए उस तरह से सचिन पायलट खेमा जो गहलोत से नाराज है भाजपा खेमें में जा सकता है। मुख्यमंत्री गहलोत का कहना है कि भाजपा उनके विधायकों को 15 से 25 करोड़ में खरीदने की कोशिश कर रही है।

ये कांग्रेस की अंदरुनी लडाई, भाजपा का नहीं लेना देना-

कुछ लोगों की मानें तो ये कांग्रेस का अंदरुनी झगडा है। उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट शुरुआत से ही कांग्रेस हाईकमान के गहलोत को मुख्यमंत्री बनाए जाने के फैसले से नाखुश थे। लेकिन अब मध्यप्रदेश में सत्ता पलट जाने से उनके इरादों को बल मिला है और वो कांग्रेस हाईकमान पर खुद को मुख्यमंत्री बनाने के लिए दबाव बना रहे हैं। ऐसा नहीं होता तो वो भाजपा का दामन थाम सकते हैं। भाजपा पर आरोप है कि वो लगातार विधायकों और पायलट के संपर्क में है ताकि राजस्थान की कांग्रेस सरकार गिराई जा सके। हालांकि भाजपा खरीद-फरोख्त के आरोपों को भाजपा को बदनाम करने की साजिश बता रही है।

ताजा खबरें