वीरेंद्र सहवाग बोले भारत बल्लेबाजों के फेल होने की वजह से हारा सेमिफाइनल, गेंदबाजों को दोष देना गलत

वीरेंद्र सहवाग ने कहा शुरुआती बल्लेबाजों ने 12 ऑवरों में सिर्फ 82 रन बनाए हैं तो हम उनके बाद के बल्लेबाजों से निडर होकर मैच खेलने और आठ ओवरों में 100 रन बनाने की उम्मीद भी कैसे कर सकते हैं। इसमें गेंदबाजों की गलती कैसे हो सकती है?

Updated On: Nov 11, 2022 19:03 IST

Dastak

Photo Source- Twitter

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने भारतीय टीम के मौजूदा कप्तान रोहित शर्मा की कड़ी आलोचना की है। रोहित शर्मा ने सेमिफाइनल में हारने के बाद इसका ठीकरा गेंदबाजों पर फोड़ा था। लेकिन सहवाग ने इसे गलत बताया है और कहा है कि खेल तो शुरु के 10 ओवरों में ही खत्म हो गया है। भारत ने स्कोर बोर्ड पर इस मैच में 168 रन बनाए थे, जिसमें विशेष तौर हार्दिक पांड्या का योगदान रहा था, इसके अलावा पूरा टॉप ऑर्डर फेल रहा था।

केएल राहुल और रोहित शर्मा ने एडिलेड में कोई खास प्रदर्शन नहीं किया। वहीं 40 गेंदों पर विराट के 50 रन इस दिन नाकाफी थे। इसके जवाब में इंग्लैंड ने बेहद आसानी से इस लक्ष्य को हासिल कर लिया और उनके पास स्पेयर में चार ओवर रह भी गए थे। क्योंकि भारतीय टीम ने उन्हें बहुत छोटा लक्ष्य दिया था।

कप्तान रोहित शर्मा ने मैच के बाद हार दोष गेंदबाजों पर मंढा था, जिसपर सोशल मीडिया पर कई लोगों ने रोहित की बात को सही मानते हुए गेंदबाजों की आलोचना की थी। लेकिन रोहित की इन बातों के खिलाफ किसी ने आवाज नहीं उठाई वो अकेले सहवाग ही हैं जो रोहित की बातों से सहमत नहीं है।

हिंदुस्तान टाइम्स के अनुसार सहवाग ने क्रिकबज पर कहा कि टी20 वर्ल्डकप के सेमिफाइनल मैच में इंग्लैंड के सामने भारत की हार का मुख्य कारण हमारी टीम के टॉप ऑर्डर का फैल होना था, मैं बॉलरों की आलोचना से सहमत नहीं हूं। सहवाग ने कहा कि ये मैच तो पहले 10 ऑवरों में ही हम हार गए थे।

भारत की T20 सेमिफाइनल में हार के बाद क्या बोले राहुल द्रविड़, किसकी है गलती?

सहवाग ने क्रिकबज पर कहा- अगर शुरुआती बल्लेबाजों ने 12 ऑवरों में सिर्फ 82 रन बनाए हैं तो हम उनके बाद के बल्लेबाजों से निडर होकर मैच खेलने और आठ ओवरों में 100 रन बनाने की उम्मीद भी कैसे कर सकते हैं। हां इस मैदान का औसत स्कोर 150 से 160 रन हो सकता है और आपने इससे ज्यादा ही बनाया है।

लेकिन उस दिन अगर एक भी बल्लेबाज उस पिच पर सेट हो जाता तो इस औसत के कुछ मायने न होते। हमने भारत में बहुत बार वानखेड़े या फिरोज शाह कोटला या चेन्नई में ऐसा होते देखा है। आज का खेल 150-160 के स्कोर के साथ नहीं जीता जा सकता था।

न्यूजीलैंड ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपना पहला मैच विश्वसनीय तरीके से खेला, लेकिन उन्होंने सेमिफाइनल में इसे दोहराया नहीं इसलिए वो बाहर भी हो गए। अगर भारत को लगता है कि उन्होंने इससे ऊपर का स्कोर बनाया है और इसलिए यह गेंदबाजी की गलती है, तो मैं इससे सहमत नहीं हूं। हम पहले 10 ओवरों में मैच हार गए जब हमारे बल्लेबाजों ने उस तरह की शुरुआत नहीं दी जिसकी हम उम्मीद कर रहे थे।

सानिया मिर्जा ने छोड़ा शोएब का दुबई वाला घर, पाकिस्तानी मीडिया का दावा तलाक पक्का

ताजा खबरें