World Cup 1983: कपिल देव की कप्तानी में भारत ने ऐसे जीता था अपना पहला विश्व कप

आज से 37 साल पहले जब भारत ने लॉर्ड्स क्रिकेट ग्राउंड पर वेस्टइंडीज को 43 रनों से हराकर अपना पहला क्रिकेट वर्ल्ड कप खिताब अपने नाम किया था। जहां विश्व कप विजेता टीम का नेतृत्व ऑलराउंडर कपिल देव (Kapil Dev) ने किया था।

Updated On: Jun 25, 2020 11:58 IST

Dastak Web

Photo Source : Social Media

25 जून, 1983 यानी आज से 37 साल पहले जब भारत ने लॉर्ड्स क्रिकेट ग्राउंड पर वेस्टइंडीज को 43 रनों से हराकर अपना पहला क्रिकेट वर्ल्ड कप खिताब अपने नाम किया था। जहां विश्व कप विजेता टीम का नेतृत्व ऑलराउंडर कपिल देव ने किया था। विश्व कप फाइनल में भारत की ओर से प्लेइंग इलेवन में कपिल देव (कप्तान), सुनील गावस्कर, के श्रीकांत, मोहिंदर अमरनाथ, यशपाल शर्मा, कीर्ति आजाद, एसएम पाटिल, मदन लाल, रोजर बिन्नी, सैयद किरमानी और बलविंदर संधू शामिल थे। उस जीत के बाद, भारत में क्रिकेट को उत्साह मिला, जिसने क्रिकेट को देश में बढ़ावा दिया। जिसके बाद हर कोई एक क्रिकेटर बनना चाहता था।

1983 के वर्ल्ड कप फाइनल में भारत और वेस्टइंडीज के बीच कड़ा मुकाबला था। वेस्टइंडीज ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का निर्णय लिया। कपिल देव की अगुवाई में भारत सिर्फ 183 रन बनाने में सफल रहे क्योंकि एंडी रॉबर्ट्स ने तीन विकेट लिए, जबकि मैल्कम मार्शल, माइकल होल्डिंग और लैरी गोम्स ने दो-दो विकेट चटकाए। भारत के लिए के श्रीकांत ने सबसे ज्यादा 38 रन बनाए, उनके अलावा कोई अन्य बल्लेबाज 30 रन के स्कोर से आगे नहीं जा सका।

183 रनों का बचाव करते हुए, भारत ने विंडीज रन फ्लो आगे बढ़ने रोकने के लिए अच्छा काम किया और मदन लाल ने उसके बाद प्रमुख बल्लेबाज विवियन रिचर्ड्स को 33 रनों पर आउट कर विंडीज टीम को 3 विकेट के नुक़सान पर 57 रन पर रोक दिया। इसके तुरंत बाद, कैरेबियाई टीम 6 विकेट के नुक़सान पर 76 रनों पर सिमट गई। और भारत वर्ल्ड कप टाइटल जितने के लिए और नजदीक पहुंच गया।

वहीं, मोहिंदर अमरनाथ ने माइकल होल्डिंग का अंतिम विकेट लेकर भारत को पहली बार विश्व कप का खिताब दिलाया।फाइनल में, वेस्ट इंडीज टीम को 140 रन पर ऑल आउट कर दिया गया और परिणामस्वरूप भारत ने 43 रनों से मैच को जीत लिया। लॉर्ड्स क्रिकेट ग्राउंड की बालकनी पर कपिल देव द्वारा वर्ल्ड कप की ट्रॉफी उठाना आज भी सभी भारतीय फैन्स के लिए यादगार पल है। फाइनल में, मोहिंदर अमरनाथ को मैन ऑफ द मैच चुना गया क्योंकि उन्होंने बल्ले से 26 रन बनाए और गेंद के साथ तीन विकेट भी लिए। भारत अपनी शुरुआत से लेकर लेटेस्ट एडिशन तक विश्व कप का नियमित रूप से भागीदार रहा है।

डीजल की कीमत 80 रुपये के पार, जानें क्यों पेट्रोल से भी महंगा हुआ डीजल

वर्ल्ड कप का पहला एडिशन 1975 में खेला गया था, जिसके बाद हर चार साल के अंतराल पर वर्ल्ड कप खेला जाता है। वेस्टइंडीज ने पहले दो विश्व कप खिताब 1975 और 1979 जीते। वहीं, भारत ने भी दो बार वर्ल्ड कप का खिताब जीता है, जहां पहला वर्ल्ड कप 1983 में और दूसरा 2011 में। वहीं, एमएस धोनी की कप्तानी में 2011 की भारतीय टीम करीब 28 साल बाद अपना दूसरा वर्ल्ड कप खिताब जीता था। बता दें ऑस्ट्रेलिया ने पांच बार वर्ल्ड कप जीता है, जिनमें 1987, 1999, 2003, 2007 और 2015 शामिल हैं।

इन दस सांसदों को संसद रत्न पुरस्कार 2020 से किया जाएगा सम्मानित

ताजा खबरें