Jeep Wrangler ने Mahindra Thar को कोर्ट में घसीटा: ऑस्ट्रेलिया में किया था नई थार का पोस्टर लॉन्च

फिएट क्रिसलर ऑटोमोबाइल्स Fiat Chrysler Automobiles (FCA) ने भारतीय कंपनी महिंद्रा (Mahindra) के खिलाफ यूएसए में लंबी कानूनी लड़ाई लडने के बाद अब उसे ऑस्ट्रेलिया (Australia) में कोर्ट में घसीटा है। Mahindra Thar का डिजाइन Jeep Wrangler से मैच खाता है।

Updated On: May 13, 2021 18:47 IST

Dastak

Photo Source- Fiat and Mahindra

फिएट क्रिसलर ऑटोमोबाइल्स Fiat Chrysler Automobiles (FCA) ने भारतीय कंपनी महिंद्रा (Mahindra) के खिलाफ यूएसए में लंबी कानूनी लड़ाई लडने के बाद अब उसे ऑस्ट्रेलिया (Australia) में कोर्ट में घसीटा है। Mahindra Thar का डिजाइन Jeep Wrangler से मैच खाता है। महिंद्रा द्वारा ऑस्ट्रेलियाई बाजार में अपनी थार एसयूवी (Thar SUV) का जैसे ही पोस्टर लॉन्च किया गया वैसे ही एफसीए ने उसके खिलाफ कोर्ट में मुकदमा दायर कर दिया। फिएट क्रिसलर ने मांग की है कि महिंद्रा को ऑस्ट्रेलियाई बाजार में थार को लॉन्च नहीं करना चाहिए और अगर वे फिर भी ऐसा करना चाहते हैं तो उन्हें 90 दिनों का नोटिस मिलना चाहिए।

महिंद्रा ने हटाया पोस्टर कोर्ट में दिया ये जवाब-

इस मामले में दोनो पार्टियां ऑस्ट्रेलिया की संघीय अदालत में चली गई हैं। फिएट को महिंद्रा थार के डिजाइन से दिक्कत है। फिएट के अनुसार थार जीप रैंगलर के डिजाइन की कॉपी है। महिंद्रा ने कोर्ट में जवाब दाखिल करते हुए कहा है कि महिंद्रा थार के मौजूदा मॉडल को ऑस्ट्रेलियाई बाजार में लॉन्च करने की योजना नहीं बना रही है। इसके अलावा अगर वे बाजार में इस मॉडल को पेश करने की योजना बनाते हैं तो वो एफसीए को पर्याप्त नोटिस देने के लिए भी सहमत है।

महिंद्रा एंड महिंद्रा के एक प्रवक्ता ने मीडिया को बताया है कि हमने एफसीए द्वारा हमारे खिलाफ शुरु की गई कार्यवाही में अपना जवाब दाखिल कर दिया है। उनके अनुसार ऑस्ट्रेलिया में थार के मौजूदा मॉडल को लॉन्च करने की कोई योजना नहीं है। अगर हम भविष्य में थार का कोई मॉडल ऑस्ट्रेलिया में लॉन्च करने की योजना बनाते हैं तो हम एफसीए को पर्याप्त नोटिस देंगे। न्यायालय ने 20 मई, 2021 को इस मामले की सुनवाई की है। भारत में थार की मौजूदा मांग को देखते हुए हमने थार को भारत से बाहर लॉन्च करने की कोई योजना अभी नहीं बनाई है।

महिंद्रा ने थार के टीजर को अपनी ऑस्ट्रेलियाई वेबसाइट से भी हटा दिया है। भारतीय ऑटो दिग्गज ने कहा है कि वर्तमान में ऑस्ट्रेलियाई बाजार में वर्तमान थार को लॉन्च करने का उसका कोई इरादा नहीं है।

महिंद्रा ने यूएसए में केस जीता-

महिंद्रा ने हाल ही में छह माह पहले अमेरिका में फिएट क्रिसलर से कोर्ट केस जीता है। फिएट ने यूएसए में महिंद्रा एंड महिंद्रा के खिलाफ मुकदमा दायर किया था और कहा था कि मंहिंद्रा की रोक्सर के डिजाइन ने "जीप ट्रेड ड्रेस" डिजाइन का उल्लंघन किया है। कंपनी ने रोक्सर की अमेरिकी बाजार में पूर्ण रुप से बिक्री पर रोक लगा दी थी। इस मामले ने अदालत ने फैसला महिंद्रा के पक्ष में सुनाया और उसे यूएसए में रॉक्सर बेचने की अनुमति दी लेकिन डिजाइन में बदलावों के साथ। रॉक्सर, जो एक एटीवी के रूप में बेची जाती है वो यूएसए में काफी लोकप्रिय हो गयी है।

भारत में थार की मांग काफी ज्यादा-

महिंद्रा ने पिछले साल भारतीय बाजार में नई थार को लॉन्च किया था। जिसके बाद ये घरेलू बाजार में एक बडी मांग के रुप में सामने आई। थार लॉन्च होते ही भारत में बुलंदियों को छू रही है। इसकी मांग इतनी है कि कंपनी इसको समय पर डिलिवर नहीं कर पा रही है। इसी कारण कंपनी पहले घरेलू बाजार की मांग को पूरा करना चाहती है और उसके बाद ही इसे विदेशी बाजार में उतारना चाहती है।

टाटा मोटर्स ने बढ़ाई कारों की कीमतें, पहले से बुकिंग वाले ग्राहकों को मिलेगा लाभ

महिंद्रा की दुनिया भर के कई बाजारों में पैठ है। जीप रैंगलर की तुलना में ऑल-न्यू थार बेहद सस्ती है, इसलिए ये जीप की बिक्रि पर खतरा पैदा कर सकती है। महिंद्रा फिलहाल थार का पांच डोर वर्जन बनाने की योजना बना रही है। जो निश्चित तौर पर कुछ बाजारों में जीप के शेयरों को नुकसान पहुंचाएगा। हालांकि रैंगलर और थार का कहीं से भी कोई मुकाबला नहीं है। रैंगलर नई थार की तुलना में काफी अधिक प्रीमियम और सक्षम कार है।

Covid-19 Cabin Air Filter: होंडा ने रोल आउट किया केबिन एयर फिल्टर, कोरोनावायरस से लड़ने में करेगा मदद

ताजा खबरें