Social Media, OTT के लिए गाइडलाइन्स जारी, अब इन बातों का रखना होगा ध्यान

Social Media, OTT Guidelines: भारत सरकार ने सोशल मीडिया (Social Media) और ओटीटी प्लेटफॉर्म (OTT Platform) के लिए गाइडलाइन्स जारी कर दी हैं। केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) और प्रकाश जावेडकर (Prakash Javedkar) ने इन गाइडलाइन्स को जानकारी दी है। 

Updated On: Feb 25, 2021 15:41 IST

Dastak Online

Photo Source: Twitter

Social Media, OTT Guidelines: भारत सरकार ने सोशल मीडिया (Social Media) और ओटीटी प्लेटफॉर्म (OTT Platform) के लिए गाइडलाइन्स जारी कर दी हैं। केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) और प्रकाश जावेडकर (Prakash Javedkar) ने इन गाइडलाइन्स को जानकारी दी है।

Social Media के लिए जरूरी गाइडलाइन्स-

- किसी भी कंटेंट को लेकर शिकायत की जाती है तो उसे सोशल मीडिया से 24 घंटे में हटा दिया जाना चाहिए। मंत्री रविशंकर ने कहा कि यूजर्स की गरिमा को लेकर अगर कोई शिकायत की जाती है, खासकर महिलाओं की गरिमा को लेकर तो आपको शिकायत करने के 24 घंटे के अंदर उस कंटेट को हटाना होगा।

- वहीं, शिकायत निवारण तंत्र रखना होगा और शिकायतों का निपटारा करने वाले ऑफिसर का नाम भी रखना होगा। ये अधिकारी 24 घंटे में शिकायत का पंजीकरण करेगा और 15 दिनों में उसका निपटारा करेगा।

- इसके अलावा, सोशल मीडिया को दो कैटिगरी में बांटा है पहला सोशल मीडिया इंटरमीडियरी और सिग्निफिकेंड सोशल मीडिया इंटरमीडियरी। सिग्निफिकेंड सोशल मीडिया इंटरमीडियरी के कानून को अगले तीन महीने में लागू किया जाएगा।

- वहीं, कोर्ट के आदेश और सरकार द्वारा पूछा जाने पर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को शरारती कंटेट का ओरिजनेटर बताना होगा।

- हर महीने मंथली कम्‍प्‍लायंस रिपोर्ट जारी करनी होगी।

कृषि कानून से किसानों की जमीन छीन ली जाएगी या MSP नहीं मिलेगा, ये सबकुछ गलत: बीजेपी नेता बाल्यान

OTT प्लेटफॉर्म के लिए गाइडलाइन्स-

- OTT प्लेटफॉर्म OTT प्लेटफॉर्म और डिजिटल ​मीडिया को अपने बारे में जानकारी देनी होगी।

- OTT प्‍लेटफॉर्म्‍स को सेल्‍फ रेगुलेशन बॉडी बनानी होगी जिसे सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज या कोई नामी हस्‍ती हेड करेगी।

- यही नहीं, ओटीटी और डिजिटल मीडिया को सूचना और प्रसारण मंत्रालय देखेगा और इंटरमीडरी प्लेटफॉर्म का संज्ञान आईटी मंत्रालय लेगा।

- ओटीटी के लिए भी एक शिकायत निवारण तंत्र और ओवरसाइड तंत्र भी होगा।

Australia में पास हुआ Landmark Law, Facebook-Google को खबरों के लिए करना होगा भुगतान

लाल किले हिंसा कभी किया जिक्र-

मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि भारत में हर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का स्वागत है लेकिन इसमें दोहरे मापदंड नहीं होने चाहिए। यदि कैपिटल हिल पर हमला होता है, तो एसएम पुलिस कार्रवाई का समर्थन करता है लेकिन अगर लाल किले पर आक्रामक हमला होता है, तो आप डबल स्‍टैंडर्ड दिखाते हैं, ये किसी लिहाज से स्‍वीकार्य नहीं है।

उत्तराखंड: ATS विंग में शामिल हुआ पहला महिला कमांडो दस्ता, स्मार्ट चीता पुलिस भी लांच

ताजा खबरें