रवि कालरा ने सड़क पर बेसहारों को देखकर गुस्से में शुरु की थी संस्था

वि कालरा, जिन्होंने 12 साल पहले सडक पर गरीब बच्चे को कुत्ते के साथ कचरा खाते देखा और इस बात से उन्हें शर्मिंदगी महसूस हुई और खुद पर गुस्सा भी आया।

Updated On: Sep 10, 2020 11:16 IST

Dastak

Dastak Photo

कुछ लोग ऐसे होते हैं जिनसे सडक पर बेसहारा लोगों को देखा नहीं जाता और वो चाहते हैं कि वो इनके लिए कुछ कर पाएं और इन्हें नई जिंदगी दे पाएं। ऐसी ही एक व्यक्ति हैं रवि कालरा, जिन्होंने 12 साल पहले सडक पर गरीब बच्चे को कुत्ते के साथ कचरा खाते देखा और इस बात से उन्हें शर्मिंदगी महसूस हुई और खुद पर गुस्सा भी आया। उन्होंने दो साल तक दिल्ली में सडक पर बेसहारा लोगों को उठाकर उनको नई जिंदगी देना का कार्य किया। उनके इस गुस्से का फायदा ये हुआ कि उनका ये काम धीरे धीरे एक संस्था में तब्दील हो गया और गुडगांव के बंधवाडी गांव में बेसहाराओं को अर्थ सेवियर फाउंडेशन के बैनर तले एक सहारा मिला।

रवि कालरा जी से आपको रुबरु करवाएंगे और जानेंगे इस सफर का शुरुआती दौर कितना कठिनाईयों से भरा था। देखिए दस्तक इंडिया के साथ उनकी ये खास वीडियो-

ताजा खबरें