Kisan March, Ram Leela Maidaan, Arvind Kejriwal, PM Narendra Modi, Sitaram Yechury
नेशनल होम

किसान मार्च : किसानों का साथ देने पंहुचे सभी विपक्षी दल, मोदी का बचना है मुश्किल

कर्जमाफी और न्‍यूनतम समर्थन मूल्‍य को लेकर एक बार फिर से बड़ी संख्या में किसान दिल्ली की सड़कों पर आये जिसके चलते लगातार सभी विपक्षी पार्टियों ने मोदी सरकार पर निशाना साधा। राहुल अब मोदी सरकार को खरी-खोटी सुनाने का एक भी मौका नहीं छोड़ते है। इन विपक्षियों को दौड़ में दिल्ली के सीएम अरविन्द केजरीवाल भी पीछे नहीं रहे। किसानों के समर्थन में केजरीवाल ने कहा कि अभी पांच महीने बाकी हैं, मैं मांग करता हूं कि केंद्र सरकार स्वामीनाथन रिपोर्ट लागू करे, वर्ना 2019 में आप किसानों का गुस्‍सा नहीं झेल पाएंगे। उन्‍होंने कहा कि मैं प्रधानमंत्री मोदी से कहना चाहता हूं कि वह जल्‍द से जल्‍द किसानों की हर मांग को मानें।

राहुल गांधी ने अन्नदाता के बहाने फिर से मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि किसान हवाई जहाज नहीं मांग रहे, कर्ज माफ करने की मांग कर रहे हैं। चाहे मुख्यमंत्री बदलना पड़े या प्रधानमंत्री, हम किसानों का भविष्य बना कर रहेंगे। उन्होंने कहा, हिंदुस्तान के सामने दो बड़े मुद्दे हैं। किसानों का भविष्य और युवाओं के रोज़गार का मुद्दा।

साथ ही, राहुल ने यह भी कहा कि यह युवा, किसानों के भविष्य की लड़ाई है। मोदी जी ने साढ़े तीन करोड़ रुपये 15 अमीरों के माफ किए। हम यहां सिर्फ न्याय की बात कर रहे हैं। अगर 15 लोगों का कर्जा माफ किया जा सकता है तो हिंदुस्तान के करोड़ो किसानों का कर्जा माफ किया जाएगा। हिन्दुस्तान का किसान कोई गिफ्ट नहीं अपना हक मांग रहा है।

राहुल ने पीएम मोदी पर आरोप लगाया कि ”आप बीमे का पैसा देते हो वो अनिल अंबानी की जेब में जाता है। अगर आप अंबानी को दे सकते हो तो हमारा कर्जा माफ करना पड़ेगा। हमारी विचारधारा अलग हो सकती है लेकिन किसानों के साथ हम यहां एक साथ हैं। ये जो आवाज़ उठ रही है हिन्दुस्तान के किसान और युवा की आवाज़ है इसे आप चुप नहीं कर सकते। मोदी जी के चेहरे से अनिल अंबानी जैसे 15 अमीर लोगों की आवाज़ निकलती है।” राहुल गांधी ने किसानों से कहा कि हम आपके साथ खड़े हैं। आप घबराइए मत। कानून बनाना हो या जो भी करना हो हम आपके लिए करेंगे।

सीपीआई (एम) प्रमुख सीताराम येचुरी ने किसान मार्च को लेकर पीएम मोदी पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि बीजेपी, मोदी और आरएसएस के पास सिर्फ राम मंदिर का मुद्दा है। जैसे-जैसे चुनाव नज़दीक आ रहे हैं, उन्होंने ‘राम-राम’ चिल्लाना शुरू कर दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *