पिछले 10 दिनों में गुजरात के गिर वन में 12 शेरों की मौत

0

गुजरात के गिर जंगल में अकेले अमरेली जिले में ही पिछले 10 दिनों में कम से कम 12 शेर मारे गए हैं। मानना है कि इनमें से आठ की जंगली बिल्लियों की बीमारियों के कारण मृत्यु हो गई, जिनका इलाज नहीं किया जा सका, और तीन घुसपैठ के दौरान मारे गए। छोटी उम्र में एक दर्जन शेरों की मौत, विभाग के लिए चिंता का कारण बन गई है। टाइम्स ऑफ़ इंडिया की खबर के अनुसार अकेले गिर पूर्व की दल्खानिया रेंज में ही 11 मौतों की सूचना मिली है। राज्य सरकार ने इन मौतों के सही कारण जानने के लिए विस्तृत जांच का आदेश दिया है।

वन विभाग के मुताबिक, 18 सितंबर को इलाज के दौरान पांच से नौ महीने के बीच तीन शेर शावकों की मृत्यु हो गई थी। जसधर पशु देखभाल केंद्र में दो का उपचार किया जा रहा था और एक जूनागढ़ पशु चिकित्सा कॉलेज में था। बुधवार को भी राजूला में जंगली सूअर पर शिकार करने के बाद एक शेरनी मृत मिली है।

परफ्यूम लगाने के दौरान आप कर रहे हैं ये गलती

वन और पर्यावरण मंत्री गणपत वासव ने कहा है कि “मैंने शेरों की मौत की जांच का आदेश दिया है। गांधीनगर की एक टीम जांच के लिए अमरेली भेज दी गयी है। प्राथमिक रिपोर्ट के अनुसार, तीन शेरों की मृत्यु प्राकृतिक कारणों से हुई है। एक बार जब हम अन्य शेरों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने के बाद अगर उनकी मौत के लिए अप्राकृतिक कारण पाए जाते हैं, तो हम आवश्यक कार्रवाई करेंगे। “

वनविभाग के उसी वन क्षेत्र में एक पांच साल की जंगली बिल्ली का शव भी मिला था जिसकी मृत्यु पांच से सात दिन पहले हो गयी थी। शरीर इतनी बुरी हालत में था कि पशु चिकित्सक यह तय करने में असमर्थ थे कि यह नर है या मादा।

विजय चौधरी जो कि डालखानिया रेंज के जंगल के सहायक संरक्षक (एसीएफ) है उन्होंने बताया कि “आठ शेर फेफड़ों या यकृत संक्रमण से मर गए। हमने मौत के सटीक कारण जानने के लिए नमूनों को दांतिवाड़ा पशु देखभाल केंद्र और जूनागढ़ पशु चिकित्सा अस्पताल में भेज दिया है”। हालांकि उन्होंने इस मौत के पीछे किसी भी महामारी से इंकार कर दिया है।

जम्मू-कश्मीर में बढ़ते आतंकियो के खौफ से पुलिसकर्मियों ने दिये इस्तीफे

Leave a Reply